उपचुनाव में हाशिए पर आई कांग्रेस

लखनऊ। गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में हाशिए पर रही कांग्रेस की इस उम्मीद को करारा झटका लगा है कि वह आगामी लोकसभा चुनाव में पिछले के मुकाबले बेहतर प्रदर्शन करेगी। कांग्रेस के इस मसूबे पर उपचुनाव ने पानी फेर दिया।

अरसे से यूपी की राजनीति में वापसी की उम्मीद लगाए कांग्रेस के लिए गोरखपुर और फूलपुर उपचुनाव में हार ने हाशिए पर ला दिया है। राहुल गांधी कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष बनने के बाद केन्द्र की मोदी सरकार के खिलाफ देश भर में माहौल बनाना शुरू कर दिया था। कांग्रेस को इसका फायदा भी मिला। राजस्थान, मध्यप्रदेश समेत कई राज्यों में हुए उपचुनाव में कांग्रेस को अच्छी सफलता भी मिली। कांग्रेस ऐसी ही आस यूपी में भी लगाई थी। कांग्रेस यूपी की दोनों लोकसभा सीटों पर अपनी जमानत नही बचा पायी। कांग्रेस के प्रत्याशियो को गोरखपुर में 18858 वोट और फूलपुर में 19353 वोट पाकर संतोष करना पड़ा।

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस 2014 के लोकसभा चुनाव में यूपी की महज एक दर्जन सीटों पर लड़ाई में थी, जिसमें महज 2 सीटें ही जीत पायी थी। 2017 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने यूपी में सत्तासीन सपा के साथ गठबंधन कर चुनावी मैदान में उतरी। 2017 में कांग्रेस 7 और सपा को 47 सीटों पर संतोष करना पड़ा था। सपा ने सभी सीटों पर वोटों का प्रतिशत और जातीय आंकड़ों पर मंथन किया। सपा ने उपचुनाव में कांग्रेस के बजाय बसपा के साथ गठजोड़ करने का मन बनाया।

राज्यसभा के चुनाव और उपचुनाव ने दोनों दलों को एक दूसरे का समर्थन के लिए मजबूर कर दिया। यूपी कांग्रेस के नेता लगातार केन्द्रीय नेतृत्व के साथ बात कर गठजोड़ के लिए दबाव बनाते रहे, लेकिन वह कामयाब नहीं हुए। कांग्रेस को मजबूरी में चुनावी मैदान में उतरना पड़ा। जिसका नतीजा यह रहा कि कांग्रेस अपनी जमानत नहीं बचा पायी। अब देखना है 2019 में कांग्रेस केन्द्र की राजनीति में अकेले मैदान में उतरेगी या अन्य दलों का सहारा लेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper