उप्र में अब प्लास्टिक कचरे से बनायी जायेंगी सड़कें

लखनऊ। प्रदेश सरकार पर्यावरण के लिये खतरा बन चुके प्लास्टिक का उपयोग कर सड़क बनायेगी। उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने बताया कि लोक निर्माण विभाग अब नैनो टेक्नोलॉजी, प्लास्टिक कचरा, जूट जियो टैक्सटाइल्स, प्लाई ऐश और सी.सी. का इसतेमाल कर नयी तकनीक से सड़क बनायेगा। इस नयी तकनीक से सड़के कम लागत में बनेगी तथा अधिक टिकाऊ होगी।

उन्हांने कहा कि प्लास्टिक कचरे से बनी सड़क पानी कम सोखेगी। आज प्लास्टिक कचरा तकनीक पूरे विश्व में लोकप्रिय हो रही है। इस तकनीक में गिट्टी के साथ प्लास्टिक चूरा मिलाया जाता है, इससे सड़क में प्लास्टिक की एक लेयर बन जाती है जो पानी को सड़क पर रूकने नहीं देती है और पानी नहीं सोखने के कारण ये सड़क जल्दी नहीं टूटती। उन्होने बताया कि प्रदेश में ग्रामीण सड़कों के निर्माण में भी इस तकनीक का प्रयोग हो रहा है।

उपमुख्यमंत्री ने बताया कि लोक निर्माण विभाग प्लास्टिक का उपयोग मार्ग निर्माण में करने के लिये केन्द्रीय सड़क अनुसंधान संस्थान के साथ जनपद बाराबंकी में कोठी-हैदरगढ़ मार्ग (अन्य जिला मार्ग) पर कार्य करेगा। उन्होंने कहा शीघ्र ही अन्य मार्गों को इस दायरे में लाया जायेगा क्योंकि प्रदेश सरकार उच्च कोटि की टिकाऊ सड़के प्रदेश की जनता को उपलब्ध कराने के लिये कटिबद्ध है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper