उप-चुनाव नतीजों के बाद बिहार में सोशल इंजीनियरिंग का नया दौर शुरू

नई दिल्ली: बिहार में एक लोकसभा और दो विधानसभा उपचुनाव के परिणाम आने के बाद राज्य की सियासत में सोशल इंजीनियरिंग का नया दौर शुरू हो गया है। तेजस्वी यादव ने राजद का आधार बढ़ाने के लिए अगले कुछ दिनों में कई और दांव खेलने के साफ संकेत दिए हैं, तो नीतीश कुमार की जदयू और भाजपा नई चुनौती से मुकाबले के लिए सन 2019 के आम चुनाव से पहले अपनी रणनीतियां बनाने में जुट गईं हैं। एक समय भूमिहार, राजपूत, ब्राह्मण और वैश्य वर्ग को टारगेट करते हुए लालू प्रसाद ने नब्बे के दशक में ‘भूरा बाल साफ करो’ का नारा दिया था। इसका उद्देश्य पिछड़ों को एक करना था।

इस अभियान में लालू प्रसाद को काफी सफलता भी मिली थी। जिसकी वजह से उन्होंने बिहार में काफी समय तक राज किया। नीतीश की बिहार की राजनीति में एंट्री से लालू प्रसाद के खराब दिनों की शुरूआत हो गई है। लालू प्रसाद से तमाम पिछड़ी जातियां छिटककर नीतीश कुमार की ओर मुड़ गईं। लालू के ऊपर पिछड़ों में यादवों को अधिक महत्व देने का आरोप लगाया गया। यह धारणा आने वाले सालों में और मजबूत होती गई और लालू यादवों और मुस्लिम मतदाताओं तक सीमित हो गए।

लालू ने सन 2015 में जब नीतीश कुमार के साथ गठबंधन किया तो नीतीश के माध्यम से अन्य पिछड़ा दल लालू प्रसाद से जुड़े। अब जबकि नीतीश आरजेडी से अलग हो गए हैं, तो तेजस्वी यादव ने पिछले कुछ महीनों से पार्टी को यादव-मुस्लिम पार्टी के टैग से बाहर निकालने के लिए अनेक प्रयोग किए हैं। मनोज झा को राज्यसभा टिकट देकर यह संदेश देने की कोशिश की गई है कि राजद सवर्ण विरोधी नहीं है। नब्बे के दशक की भूरा बाल की राजनीति अब बीते दिनों की बात हो गई है। अब वह सबका साथ चाहते हैं।

राजद ने हाल के दिनों में पार्टी संगठन की स्थानीय इकाइयों में गैर यादवों को प्राथमिकता दी है। तेजस्वी ने समाज में यह संदेश देने का प्रयास किया है कि वह नई स्थिति में सांगठनिक बदलाव के लिए पूरी तरह तैयार हैं। उधर, भाजपा और नीतीश कुमार को पता है कि राजद इस मुहिम में सफल हो गई तो वह राजनीतिक रूप से बड़ी चुनौती बन सकती है। बिहार में यादव और मुस्लिम को मिलाकर 30 फीसदी के करीब वोट है। ऐसे में अगर राजद अपना जनाधार थोड़ा भी बढ़ाने में सफल रही तो बिहार में 40 लोकसभा सीटों पर उनकी दावेदारी को नजरअंदाज करना आसान नहीं होगा। ऐसे में इन दोनों दलों ने भी सोशल इंजीनियरिंग का काउंटर अटैक करने की तैयारी शुरू कर दी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper