एंड्रोमेडा गैलेक्‍सी से आए एलियन को पहली मुलाकात में दिल दे बैठी ब्रिटिश महिला, कहा वह धरती के मर्दों से बेहतर

लंदन: दुनिया अभी एलियंस के अस्तित्‍व पर बहस कर रही है, लेकिन एक ब्रिटिश महिला ने इससे कहीं आगे बढ़ते हुए दावा किया है कि उसे एंड्रोमेडा गैलेक्सी से आए एक एलियन से बेपनाह मोहब्‍बत हो गई है। अब्‍बी बेला नाम की इस महिला ने दावा किया कि एलियन ने उसका यूएफओ के जरिए उसके बेडरूप से अपहरण कर लिया था। पेशे से अभिनेत्री अब्‍बी बेला ने दावा किया कि इसी दौरान उनकी एलियंस से मुलाकात हुई।

उन्‍होंने कहा कि एलियंस धरती के मर्दों से ज्‍यादा बेहतर हैं। अब्‍बी ने इसी महीने दावा किया था कि एलियंस ने उनका अपहरण कर लिया था। उन्‍होंने बताया कि जिस एलिय़न को वह अपना दिल दे चुकी हैं, वह एंड्रोमेडा गैलेक्‍सी से आया था और वह अपने प्रेमी से दोबारा मुलाकात का इंतजार कर रही हैं। अब्‍बी ने कहा जबसे मेरी मुलाकात एलियन से हुई है, तब से मुझे धरती के इंसानों घृणा हो गई है। मैंने ऑनलाइन मजाक किया था कि मैं चाहती हूं कि एलियन मेरा अपहरण कर लें।

उन्‍होंने कहा इसके बाद मैंने प्रत्‍येक रात एक सफेद रोशनी के बारे में सपना देखना शुरू किया। एक रात मेरे सपने में मेरी आवाज ने कहा कि एक सामान्‍य जगह पर इंतजार करो। अगले दिन शाम को मैं अपने बेडरूम में खिड़की खोलकर बैठी थी। मैं सोने ही वाली थी कि एक उड़न तश्‍तरी बाहर दिखाई दी। इसके बाद एक हरी चमकदार लाइट मुझे यूएफओ के अंदर उठा ले गई। अब्‍बी ने दावा किया कि यूएफओ के अंदर 5 एलियन थे और इसमें से एक इंसान की तरह था। हालांकि वे बहुत लंबे और दुबले थे। उन्‍होंने कहा वहां पर एक एलियन था। जिसने मुझसे बात की।

मैंने ऐसा महसूस किया। उसने कहा मुझे आपको ले जाने की अनुमति चाहिए, लेकिन मैं हां नहीं कहना चाहती थी, क्‍योंकि वह मुझे कहीं हमेशा के लिए न लेकर चला जाए। उन्‍होंने बताया कि वह करीब 20 मिनट बाद पूर्वी लंदन स्थित अपने घर वापस लौट आईं। वह अब हर रात अपना बैग तैयार रखती हैं और कहती हैं मैं आशा करती हूं कि वह वापस आएगा। मैं एंड्रोमेडा गैलेक्‍सी जाने की इच्‍छुक हूं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper