एक नयी पार्टी लेकर आ रहे है शरद यादव

लखनऊ ट्रिब्यून दिल्ली ब्यूरो: पटना से खबर आ रही है कि शरद यादव ने नीतीश सरकार पर करारा हमला करते हुए कहा कि नीतीश की सरकार 13 साल से सत्ता में है लेकिन सूबे में आज तक एक भी उद्योग नहीं लग सका। यह शर्म की बात है। जदयू के बागी नेता और पूर्व सांसद शरद यादव ने अपनी पार्टी को लेकर एक नया खुलासा करते हुए कहा कि उन्होंने नये राजनीतिक दल के निबंधन के लिए आवेदन दिया है और जिस दिन नाम और सिंबल मिल जायेगा और उसके बाद नयी पार्टी का राष्ट्रीय अधिवेशन बुलाउंगा और सभी कार्यकर्ता और पार्टी के नेता उसमें शामिल होंगे।

शरद यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जापान यात्रा को लेकर भी निशाना साधा।उन्होंने कहा है कि बिहार में गत 13 सालों से एक भी फैक्ट्री नहीं लगवा पाने वाले नीतीश कुमार अब जापान की यात्रा कर रहे हैं। यादव ने कहा है कि बिहार पर इतने दिनों से राज करने वाले मुख्यमंत्री आज तक एक उद्योग नहीं लगवा पाये हैं।

शरद यादव ने बिहार की विधि व्यवस्था के साथ शिक्षा व्यवस्था पर भी तंज कसते हुए कहा कि बिहार में शिक्षा की स्थिति लगातार खराब हो रही है। उनका कहना है कि नीतीश ने बिहार की 11 करोड़ जनता के विश्वास को ठेस पहुंचाया है। शरद यादव ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि सरकार ने घोटाला करने वाले एक शख्स को भी नहीं पकड़ा है। उसके बाद उन्होंने केंद्र सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि देश को नोटबंदी और जीएसटी ने 10 साल पीछे धकेला है। घोटाले का जिक्र करते हुए पूर्व सांसद ने कहा कि शिफ्ट एप की वजह से ही बैंक में घोटाला हुआ है।

शरद यादव ने एनडीए के नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ लोग मुझे राज्यसभा की सीट को लेकर तौल रहे हैं, लेकिन उनको मैं बताना चाहूंगा कि मेरा 43 साल का राजनीतिक कैरियर रहा है और ऐसे राज्यसभा के ऑफर को मैं कई बार ठुकरा चुका हूं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper