एक होटल जिसे कहा जाता है श्रापित ,105 कमरे वाले इस खूबसूरत ईमारत के आस पास भी नहीं जाते लोग

क्या आप भी श्राप जैसी चीजों में यकीन रखते है। दुनिया भर में आये दिन कुछ ना कुछ अजीब घटित होता रहता है जिनमे से कुछ के जवाब तो आज तक कोई नहीं ढूंढ पाया है। ऐसा नहीं है कि कोई उन सवालो को हल करने की कोशिश नहीं करता है अपितु होता ऐसा है की कोशिश करने पर भी कुछ रहस्य रहस्य ही रह जाते है।

उत्तर कोरिया में मोदजूद एक होटल के साथ भी ऐसा ही सीन है जिसे लोग शापित और भूतिया मानते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दे की इस होटल का नाम रयुगयोंग है। जैसा कि तस्वीर में आप इस खूबसूरत होटल को देख सकते है। इसकी खूबसूरती देख कोई मान ही नहीं सकता कि इसमें भूतिया या श्रापित जैसा कुछ है।

इस होटल का आकार पिरामिड की जैसा है। स्थानीय लोग इसे यू-क्यूंग के नाम से भी जानते हैं। होटल की इमारत को खूबसूरत बनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी गयी मगर फिर भी आज तक इसमें एक भी व्यक्ति नहीं रुका। आपको बता दे की इस होटल में कुल 105 मंजिल है तथा इस गगनचुम्बी होटल की उचाई 330 मीटर है। बताया जाता है कि इस होटल को बनाने का कार्य 1987 में शुरू किया गया था और लक्ष्य था कि इस होटल को 2 साल के भीतर ही बना कर तैयार कर दिया जाए।

मगर कहा जाता है की आज तक इस होटल का काम कभी पूरा हो ही नहीं पाया। इसके बनाने में लगभग 55 अरब रुपये से अधिक खर्च हो चुके हैं पर होटल अभी भी अंदर से वीरान पड़ा है। इतनी बड़ी रकम खर्च करने के बावजूद भी इस होटल का काम पूरा ना हो सके जिसके कारण लोग इसको श्रापित मानने लगे।

पूरी दुनिया अब इस होटल को धरती की सबसे ऊंची वीरान इमारत के तौर पर जानती है। बताया जाता है कि इस होटल के श्रापित होने की अटकलें साल 2018 से ज्यादा तेज़ हुईं थीं जब इस होटल में लेज़र शो ऑर्गनाइज़ किया गया था। उस वक़्त लोगो को लगने लगा था की अब ये होटल शुरू हो जायेगा मगर आज तक इसका काम भी पूरा ना हो सका।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper