एग्जाम देने पहुंचे बच्चों को दिल्ली पुलिस ने दिए गुलाब के फूल

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली में इस वक्त शांति का माहौल है, हिंसा पूरी तरह से थम चुकी है। लेकिन अफवाहों का बाज़ार गर्म है और इस वजह से लोगों में डर का माहौल है। लोगों के इसी डर को दूर करने के लिए अब दिल्ली पुलिस ने मोर्चा संभाला है। सोमवार सुबह जब दिल्ली के खजूरी खास इलाके में बच्चे स्कूल जा रहे थे, तो पुलिस अफसर उन्हें फूल बांटते दिखे। ताकि बच्चों के दिल में कोई खौफ ना रहे।खजूरी खास इलाके के एसएचओ अशोक कुमार सोमवार सुबह सर्वोदय विद्यालय पहुंचे। यहां परीक्षा देने आ रहे बच्चों का पुलिस अफसरों ने दिल खोलकर स्वागत किया।

इस दौरान खुद एसीपी ने बच्चों को गुलाब के फूल दिए। पुलिस की ओर से संदेश देने की कोशिश है कि सबकुछ शांत है।बता दें कि दिल्ली के इस इलाके में हिंसा होने के बाद अब पहली बार स्कूल खुले हैं, ऐसे में बच्चों की हौसला अफजाई करना भी जरूरी है। इन दिनों सीबीएसई की बोर्ड परीक्षाएं भी चल रही हैं, लेकिन हिंसा की वजह से परीक्षा में काफी दिक्कतें भी आईं। हिंसा को देखते हुए सीबीएसई ने हिंसा प्रभावित इलाकों में 10वीं, 12वीं की परीक्षा को 2 मार्च की बजाय 7 मार्च करने का ऑप्शन दिया है, जो बच्चे सोमवार को एग्जाम नहीं दे पाए वो बाद में दे पाएंगे।

साथ ही सभी प्राइवेट स्कूल भी 7 मार्च तक बंद रहेंगे। दिल्ली के उत्तर पूर्वी इलाकों में सोमवार को एकाएक अफवाह फैल गई थी। सोशल मीडिया हो या फोन हर जगह अफवाह थी कि दिल्ली में फिर माहौल गड़बड़ हो रहा है, हालांकि पुलिस ने एक्शन में आते ही तुरंत इन अफवाहों को दूर करने का काम किया। दिल्ली पुलिस के अधिकारी सड़क पर घूम-घूम कर लोगों को भरोसा दिलाते हुए दिखे। इसके अलावा सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वालों पर कड़ी कार्रवाई भी ली जा रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper