एनआईए के रडार पर हेड कांस्टेबल, आईएस आतंकी को पासपोर्ट दिलाने में की थी मदद

नई दिल्ली: आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) में भारत से शामिल होने वाले आतंकियों को पासपोर्ट सत्यापन में मदद करने के लिए राष्ट्रीय जांच एजेंसी एनआईए ने तमिलनाडु का एक पुलिस हेड कांस्टेबल को जांच में लिया है। शक है कि इस पुलिस हेड कांस्टेबल ने आईएस के टॉप लड़ाकों में शामिल कन्नूर के शाहजहां वेल्लू कैंडी जैसों के फर्जी पासपोर्ट के सतयापन में सहायता की थी। शाहजहां इस फर्जी पासपोर्ट के सहारे ही सीरिया जाने के क्रम में तुर्की पहुंचा था। इस मामले में चेन्नई का एक हेड कॉन्स्टेबल एनआईए की रडार पर है।

जांच की गोपनीयता बरकरार रखने के लिए पुलिस अधिकारी का नाम नहीं बताया गया है। बताया जाता है कि हेड कॉन्स्टेबल ने शाहजहां के पासपोर्ट आवेदन में दिए गए पते और संदर्भों का ठीक से सत्यापन नहीं किया। जिसकी वजह से शाहजहां मोहम्मद इस्माइल मोइद्दीन के नाम से फर्जी पासपोर्ट हासिल करने में सफल रहा। बाद में पता चला कि पासपोर्ट के आवेदन के लिए जो पता और जो अन्य संदर्भ दिए गए थे, वे असल में थे ही नहीं।

शाहजहां को 22 मार्च 2017 को चेन्नई क्षेत्रीय पासपोर्ट ऑफिस से पासपोर्ट जारी किया गया था। एनआईए द्वारा दाखिल की गई चार्जशीट के मुताबिक 32 साल के शाहजहां का ताल्लुक पॉप्युलर फ्रंट ऑफ इंडिया से था। उसने फरवरी 2017 में दो बार अपने अन्य सहयोगियों के साथ केरल से तुर्की के रास्ते सीरिया में घुसने की कोशिश की थी। इसके बाद उसने अप्रैल 2017 में फिर से एक बार ऐसी कोशिश की।

चार्जशीट के मुताबिक इस्तांबुल में एक रूसी एजेंट ने सीरिया तक पहुंचने में शाहजहां की मदद भी की थी। अबतक एनआईए ने हेड कॉन्स्टेबल को अपनी चार्जशीट में आरोपी नहीं बनाया है, लेकिन सूत्रों का कहना है कि उसके खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी। चार्जशीट के मुताबिक शाहजहां हिजरा (सीरिया/इराक पहुंचकर इस्लामिक स्टेट की कार्रवाइयों में शामिल होना) के लिए इतना बेचैन था कि उसने अपनी गाड़ी और बीवी के गहने तक बेच दिए थे। जुलाई 2016 में उसने मां के नाम रजिस्टर्ड मारुति स्विफ्ट (वीडीआई) कार को ओएलएक्स पर 4 लाख 5 हजार रुपये में बेच दी।

इसके बाद उसने अपनी बीवी के 34.76 ग्राम वजन के सोने के गहनों को कन्नूर में मालाबार गोल्ड ऐंड डायमंड्स को 98092 रुपये में बेचा। इसके अलावा उसने बीवी और दो बेटों के साथ पहली बार भारत छोड़ने से पहले अपने बचत खाते में 1.5 लाख रुपये की राशि भी निकाली थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper