एनडीए में रहे या नहीं भाजपा पर निर्भर: ओमप्रकाश राजभर

लखनऊ ब्यूरो। प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने शुक्रवार को फिर भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि 27 प्रतिशत पिछड़ों के आरक्षण में बंटवारे की मांग लोकसभा चुनाव के पूर्व पूरा नहीं हुई तो वह प्रदेश के सभी अस्सी लोकसभा सीटों पर सुभासपा से प्रत्याशी उतारेंगे। यह भाजपा के ऊपर निर्भर करता है कि मांग पूरी करती है कि नहीं।

ओमप्रकाश राजभर ने गुरुवार को वाराणसी के सर्किट हाउस में पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि सरकार के कार्य प्रणाली से नाराजगी जताते हुए कहा कि बीते वर्ष के 20 मार्च को उनकी भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से लगभग पौने दो घंटे 27 प्रतिशत आरक्षण के बंटवारे को लेकर बातचीत हुई थी ।

तब पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा थी कि लोकसभा चुनाव से 6 महीना पहले हम इसकी घोषणा कर देंगे। भाजपा गठबंधन से अलग होने के सवाल पर राजभर ने कहा कि आरक्षण में बंटवारे की मांग पूरी होने पर 2024 तक भाजपा चाहेगी तो हम उसके साथ रहेंगे यह भाजपा के उपर ​निर्भर है। कानून व्यवस्था से जुड़े सवाल पर राजभर ने कहा कि पूरे प्रदेश में कानून-व्यवस्था फेल हैं।

वार्ता के दौरान राजभर प्रदेश के राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार अनिल राजभर पर खासे आक्रामक दिखे उन्हें बच्चा अशिक्षित बता डाला। प्रयागराज अर्ध कुम्भ का नाम कुम्भ करने के विरोध में हाईकोर्ट में पड़ी अपील से जुड़े सवाल पर राजभर ने कहा कि पहले सरकार ने इसका प्रचार प्रसार अर्ध कुम्भ के नाम से ही किया था। बाद में उसे कुम्भ नाम दे दिया गया।

पता नहीं कैसे अर्ध कुम्भ को कुम्भ कर दिया गया। सपा में फूट पड़ने और पार्टी के कद्दावर मंत्री आज़म खां के शिवपाल सिंह के साथ जाने से जुड़े सवाल पर कैबिनेट मंत्री ने कहा कि यह राजनीति में होता हैं। हमारे देश के 50 प्रतिशत नेता मौसम वैज्ञानिक होते हैं। वो मौक़ा देखकर कभी भाजपा के साथ, कभी कांग्रेस के साथ, कभी समाजवादी पार्टी के साथ हो जाते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper