एनडीए सहयोगी रामदास अठावले ने अब शुरू किया बीजेपी से मोलभाव

दिल्ली ब्यूरो: यूपीए हो या फिर एनडीए, सहयोगी दलों को साधना कोई मामूली बात नहीं। नखरे दोनों तरफ हैं। बड़ी पार्टी अपना हुकूमत करना चाहती है जबकि छोटी पार्टियां अपना हिस्सा चाहती है। इसीलिए परस्पर मिलभाव पर टिकी राजनीति का कोई चरित्र नहीं होता। समाज में धोखा, पतीत, आयाराम गया राम और पाखंड से जुड़े जितने भी मुहावरें हैं, सब राजनीति पर फिर बैठते हैं। अब देखिये कि कल तक बीजेपी के साथ सरकार चलाने से हिंदुत्व की राजनीति करने वाली शिवसेना अब बीजेपी से जुदा हो गयी है।

अगला लोकसभा चुनाव वह अकेले लड़ेगी जैसा कि वह कहते आ रही हैं। उधर बिहार में भी कुछ इसी तरह की राजनीति बनती जा रही है। अभी हाल में ही बीजेपी के साथ गयी जदयू सीट बंटवारे को लेकर लगातार बीजेपी पर हमलावर है। एनडीए में शामिल चंद्रबाबू नायडू अलग हो ही चुके हैं। इधर कुछ इसी राह पर एनडीए सहयोगी आरपीआई वाले रामदास अठावले भी चलते दीखते रहे हैं। आगामी चुनाव को देखते हुए रामदास अठावले ने बीजेपी से सौदा करना शुरू कर दिया है।

केंद्रीय मंत्री और आरपीआई प्रमुख रामदास अठावले ने महाराष्ट्र मंत्रिमंडल में अपनी पार्टी के लिए मंत्री पद की मांग की है। अठावले ने कहा, ‘हम मांग करते हैं कि महाराष्ट्र सरकार में रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया को एमएलसी और एक मंत्री पद दिया जाए।’ उन्होंने कहा, शिवसेना ने बेशक से 2019 लोकसभा चुनावों में अकेले लड़ने का फैसला लिया हो, लेकिन हम हमेशा बीजेपी के साथ खड़े हैं।’

बता दें कि वर्तमान में रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (अठावले) का वर्तमान में महाराष्ट्र विधानसभा और विधान परिषद में कोई भी सदस्य नहीं है। उन्होंने का कि मंत्री पद के उम्मीदवार को पहले ऊपरी सदन के लिए निर्वाचित किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि फडणवीस को एक सीट पर आरपीआई उम्मीदवार का समर्थन करना जरूरी है। बता दें कि महाराष्ट्र में विधान परिषद के चुनाव हो रहे हैं।

अगले चरण के चुनाव 16 जुलाई को होने वाले हैं। ऐसे में अठावले बयान और सीधे तौर पर समर्थन की मांग करना बीजेपी के लिए एक चुनौती माना जा रहा है। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के लिए इस तरह की मांग परेशान करने वाली है क्योंकि वे पहले से ही विपक्ष के संभावित गठबन्धन से परेशान हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper