एनसीएल में “सतर्कता जागरूकता सप्ताह-2022” का हुआ समापन

 

बुधवार को नॉर्दर्न कोलफील्डस लिमिटेड (एनसीएल) के मुख्यालय में सतर्कता जागरूकता सप्ताह-2022 का समापन हुआ । केंद्रीय सतर्कता आयोग, भारत सरकार के निर्देशन में एनसीएल के सभी कोयला क्षेत्रों व इकाइयों में 31 अक्टूबर से 6 नवंबर 2022 तक भ्रष्टाचार मुक्त भारत, विकसित भारत विषय पर सतर्कता जागरूकता सप्ताह मनाया गया था । इस सप्ताह के दौरान सतर्कता संबंधी विषयों पर कर्मियों के लिए प्रशिक्षण,सेमिनार, विभिन्न प्रतियोगिताओं, ग्राम-संवाद, कलेक्ट्रेट व स्थानीय थानों में संवाद व सतर्कता शपथ, सतर्कता रैली, सतर्कता रथ इत्यादि के माध्यम से कर्मियों व हितग्राहियों में सतर्कता के संदेश को पुख्ता किया गया ।

समापन समारोह के दौरान एनसीएल के सीएमडी श्री भोला सिंह, निदेशक (कार्मिक) श्री मनीष कुमार ,निदेशक (वित्त) श्री रजनीश नारायण, मुख्यालय के विभागाध्यक्ष तथा अन्य अधिकारी व कर्मचारीगण मौजूद रहे ।

कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि संबोधित करते हुए सीएमडी श्री भोला सिंह ने जीवन में विकास के सही मायनों, नैतिक शिक्षा के महत्व, कंपनी व राष्ट्र के प्रति दायित्वबोध, आत्म-अवलोकन, विश्वास, निर्धारित नियमों के पालन व आवश्यकता पड़ने पर विचार विमर्श से सही निर्णय लेने जैसे अनेक मुद्दों पर सारगर्भित उद्बोधन दिया। श्री सिंह ने कहा कि हमें हमेशा स्वयं से प्रतिस्पर्धा करनी चाहिए, न कि औरों से । उन्होंने भ्रष्टाचार को कम करने में निष्ठापूर्वक अपने कर्तव्यों का निर्वहन करने तथा आत्मसंतोष के महत्व को रेखांकित किया ।

इस दौरान निदेशक (कार्मिक) श्री मनीष कुमार ने निवारक सतर्कता से संबन्धित प्रयासों को तेज़ करने, कर्मियों को नियमों के प्रति जागरूक करने, दंडात्मक के बजाय निवारक सतर्कता पर ज़ोर देने, कर्मियों को सही परामर्श देने जैसे अनेक मुद्दों पर अपने विचार रखे ।

कार्यक्रम में निदेशक(वित्त) श्री रजनीश नारायण ने कहा कि जीवन में सत्यनिष्ठा के साथ अपने कर्तव्यों का निर्वहन करने के लिए आत्म संयम, आत्म संतोष, आत्म-बल व आत्मविश्वास की बड़ी भूमिका है । उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार, खुशहाली व विकास एक साथ नहीं चल सकते, इसलिए आवश्यक है कि हम अपने चरित्र निर्माण पर विशेष ध्यान दें तभी भ्रष्टाचार मुक्त राष्ट्र का निर्माण संभव है ।

कार्यक्रम के दौरान महाप्रबंधक(सतर्कता) श्री राजीव रंजन ने सभी अतिथियों का स्वागत किया और सतर्कता के क्षेत्र में कंपनी द्वारा किए गए कार्यों व उपलब्धियों के बारे में बताया । कार्यक्रम का संचालन उप-प्रबन्धक (ई&एम/सतर्कता) श्री रमन शर्मा तथा धन्यवाद ज्ञापन प्रबन्धक(कार्मिक/सतर्कता) श्री सुमित पाण्डेय ने किया ।

कार्यक्रम में एनसीएल के सतर्कता विशेषांक मैगजीन का ई-विमोचन भी किया । इस पत्रिका के माध्यम से कंपनी में निवारक सतर्कता सुनिश्चित करने हेतु कंपनी द्वारा किए गए सुधारों व तकनीकी पहलों का विवरण दिया गया है। इसके साथ ही भ्रष्टाचार मुक्त भारत की थीम पर एनसीएल कर्मियों के लेख व विचारों को भी प्रकाशित किया गया है।

सर्वश्रेष्ठ प्रतिभागियों को मिला सम्मान
सतर्कता जागरूकता सप्ताह के दौरान आयोजित प्रतियोगिताओं में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले कर्मियों को सम्मानित किया गया । इस दौरान प्रबन्धक(खनन), सीपी श्री पंकज कुमार त्रिपाठी को कविता/गीत लेखन, प्रबन्धक(उत्खनन), श्री पुरुषोत्तम कुमार को भाषण प्रतियोगिता, उप प्रबन्धक(कार्मिक) श्री सुशील कुमार गौतम को वाद-विवाद प्रतियोगिता, उप-प्रबन्धक(कार्मिक) श्री पवन कुमार डूकिया को लेख, सहायक प्रबन्धक(सीडी), जयंत श्री जगदीश सोनरिश को प्रणालीगत सुधार पर केस स्टडी, प्रबंधन प्रशिक्षु (एस&आर) श्री प्रशांत शर्मा को प्रश्नोत्तरी, तथा प्रबंधन प्रशिक्षु(वित्त) सुश्री अदिति मित्तल को स्लोगन लेखन के लिए पुरस्कार मिला ।

सतर्कता जागरूकता सप्ताह के दौरान आस-पास के विद्यालयों में निबंध लेखन, पोस्टर प्रतियोगिता, भाषण एवं प्रश्नोत्तरी जैसी कई प्रतियोगिताएं आयोजित की गईं। इसके साथ ही प्रमुख स्थानों पर पोस्टर व बैनर, नुक्कड़ नाटक, सतर्कता रथ, तथा संचार के विविध माध्यमों से सतर्कता के संदेश को सभी तक पहुंचाया गया ।

रवीन्द्र केसरी सोनभद्र

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper