एमबीबीएस पास कराने का ठेका लेने वाले गिरोह के चार सदस्य गिरफ्तार

लखनऊ: एमबीबीएस परीक्षा में पास कराने का ठेका लेने वाले गिरोह के चार सदस्यों को एसटीएफ ने शनिवार को मेरठ से गिरफ्तार किया है। गिरोह के सदस्य चौधरी चरण सिंह विवि मेरठ से सम्बद्ध मेडिकल कालेजों के एमबीबीएस व अन्य महाविद्यालयों की स्नातक, परास्नातक तथा एलएलबी परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं को बदलवाने में लिप्त थे।

गिरफ्तार लोगों में कविराज, कपिल कुमार, पवन कुमार और संदीप हैं। चारों मेरठ के निवासी हैं। इनके पास से एसटीएफ ने 2 एमबीबीएस की लिखी उत्तर पुस्तिका, 4 मोबाइल, 3 आधार कार्ड, 1 आई कार्ड और 1,05000 रुपये बरामद किया है। मेरठ में मुकदमा पंजीकृत किया गया है।एसटीएफ के एसएसपी अभिषेक सिंह ने बताया कि मुखबिर की सूचना पर कविराज को एसटीएफ फील्ड इकाई मेरठ ने स्थानीय पुलिस के साथ छापा मारकर एमबीबीएस द्वितीय वर्ष की परीक्षा की लिखी 2 कापियों सहित गिरफ्तार किया।

गिरफ्तार कविराज ने बताया कि उसके साथ विश्वविद्यलाय के कर्मचारी संदीप, पवन व कपिल संलिप्त हैं, जो बाहर से लिखी उत्तर पुस्तिकाओं को बदल देते हैं। तीनों कर्मचारियों को कविराज ने विश्वविद्यलाय पहुंचकर गिरफ्तार करवा दिया।कविराज ने बताया कि एमबीबीएस के छात्रों से एक पेपर की उत्तर पुस्तिका बदलने के एवज में डेढ लाख रुपये तक वसूलते हैं।

इसमें से दस हजार विविद्यालय की खाली उत्तर पुस्तिका लाने के लिए संदीप को दिये जाते हैं। 65 हजार रुपये तक लिखित उत्तर पुस्तिका बदलने के लिए पवन व कपिल को दिये जाते हैं। संदीप खाली उत्तर पुस्तिकाएं विविद्यालय से लाकर देता है। इन पुस्तिकाओं को छात्रों से लिखवाकर पवन व कपिल को दिया जाता है। पवन व कपिल पुस्तिकाओं के उपर के पेज को बदल कर अनुभाग में रख देते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper