एसआरएएस मेडिकल कालेज में डर्मेटोलाजी विभाग ने किया क्यूटिशाप वर्कशाप का आयोजन

बरेली: एसआरएमएस मेडिकल कालेज में कल डर्मेटोलाजी विभाग की ओर से चेहरे की ढीली त्वचा को टाइट करने के संबंध में क्यूटिशाप वर्कशाप 2022 आयोजित हुई। इसमें स्किन स्पेशलिस्ट डा.इंदू बल्लानी और डा.मृगांका मेहरा ने अत्याधुनिक तकनीकी का जिक्र किया। उन्होंने बताया कि चेहरे की त्वचा को टाइट करने के लिए बोटाक्स का इस्तेमाल किया जाता है। इसे सर्जरी के जरिये स्किन में इंजेक्ट किया जाता है। यह कष्टप्रद और खर्चीली प्रक्रिया है। इसके स्थान पर अब नान सर्जिकल प्रोसेस की ओर लोगों का रुझान बढ़ रहा है। जिसमें धागे का इस्तेमाल होता है।

धागे को निडिल के जरिये स्किन में डाला जाता है और उसे खींच कर ढीली त्वचा को टाइट किया जाता है। इसमें मरीज को पीड़ा भी कम होती है और खर्च भी अमूमन कम आता है। वर्कशाप से पहले सरस्वती वंदना से कार्यक्रम आरंभ हुआ। डर्मेटोलाजी विभाग के अध्यक्ष और वर्कशाप के आर्गनाइजिंग चेयरपर्सन डा.प्रतीक गहलोत ने सभी का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि रुहेलखंड रीजन में डर्मेटोलाजी की इस तरह की यह पहली वर्कशाप हो रही है। कालेज के प्रिंसिपल डा.एसबी गुप्ता ने मेडिकल कालेज की उपलब्धियों का जिक्र किया। मेडिकल कालेज के डायरेक्टर आदित्य मूर्ति ने कोविड महामारी के दौर में वर्चुअल वर्कशाप आयोजित हो रही थीं। लेकिन फिजिकल वर्कशाप का अपना विशेष महत्व है।

इसी वजह से पिछले माह से अब तक हमारे यहां क्रिटिकल केयर की अंतरराष्ट्रीय वर्कशाप समेत आठ बड़ी वर्कशाप आयोजित हो चुकी हैं। कार्यक्रम के अंत में स्किन स्पेशलिस्ट डा.मधुर कांत रस्तोगी ने सभी का आभार जताया। इस मौके पर मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डा.आरपी सिंह, डिप्टी मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डा.सीएम चतुर्वेदी, डीन पीजी डा.रोहित शर्मा, डा.अमर सिंह, सभी विभागाध्यक्ष और डर्मेटोलाजी के विद्यार्थी उपस्थित रहे।

बरेली से ए सी सक्सेना ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper