एसकेडी एकेडमी के प्रांगण में विधिवत माँ आदिशक्ति दुर्गा का आह्वान किया गया

लखनऊ: एसकेडी एकेडमी, की वृन्दावन शाखमें शारदीय नवरात्र पर कलश स्थापना एवं माँ आदिशक्ति दुर्गा की आराधना की गई।जिसमें सारे स्टॉफ ने श्रद्धापूर्वक भाग लिया। इस अवसर पर बच्चों को माँ दुर्गा के विभिन्न रूपों का महत्व बताया गया तथा त्योहार को मनाने का उद्देश्य समझाया गया। साथ ही आज के दिन माँ दुर्गा का आह्वान पूजन बंदन, आरती एवं कीर्तन से स्वागत किया गया।

नवरात्र का पर्व तमस से उजाले की ओर बढ़ने का अनुष्ठान है। नवरात्र में आदिशक्ति के नौ रूपों की उपासना किए जाने का विधान है। प्रथम तीन दिन महाकाली, फिर तीन दिन महालक्ष्मी और बाद के तीन दिन महासरस्वती की आराधना होती है। इस अवसर पर बच्चों ने लघु नाटिका भी प्रस्तुत की।

त्रेतायुग में भगवान राम ने दुर्गा जी अर्थात् शक्ति की उपासना की और उनसे शक्ति पाकर दशमी के दिन रावण का वध किया। एसकेडी एकेडमी के निदेशक मनीष सिंह जी ने नवरात्र पर समस्त स्टॉफ को बधाई देते हुये दोनों के महत्व को बताया। कार्यक्रम का समापन प्रसाद वितरण के साथ हुआ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper