एसडीएम बन शादी का झांसा देकर किया दुष्कर्म

लखनऊ: गाजीपुर इलाके में रहने वाली युवती को एसडीएम लखनऊ बनकर डॉक विभाग कर्मी ने शादी का झांसा देकर दुष्कर्म किया। विरोध करने पर आरोपित ने जल्द शादी करने की बात कही लेकिन फिर वह टालमटोल करने लगा। शक होने पर पीड़िता ने पड़ताल की तो पता चला कि आरोपित एसडीएम नहीं बल्कि डाक विभाग कर्मी है। सच्चाई सामने आने पर आरोपित ने पीड़िता व उसके परिजनों को बदनाम करने की धमकी दी। गाजीपुर पुलिस ने पीड़िता की तहरीर पर नामजद रिपोर्ट दर्ज कर ली है।मूल रूप से बस्ती जनपद निवासी रागिनी (काल्पनिक नाम) गाजीपुर थाना क्षेत्र में रहकर एक प्राइवेट कम्पनी में नौकरी करती है।

पीड़िता ने बताया कि आफिस आते-जाते निशांत वर्मा नाम का युवक उसका पीछा करता था। कुछ दिनों तक वह उसे नजरअंदाज करती रही लेकिन जब निशांत की हरकतें बंद नहीं हुई तो उसने एक दिन उसे रास्ते में रोककर टोक दिया। निशांत ने खुद को एसडीएम लखनऊ बताते हुए युवती के सामने शादी का प्रस्ताव रखा। युवती ने सड़क पर शादी की बात से इंकार किया। इस पर निशांत ने कहा कि वह उसे अपना नम्बर दे दे, ताकि वह अपने घरवालों से उसके घरवालों की बात करा सके। भरोसा कर युवती ने नम्बर दे दिया। उसके बाद निशांत ने एक महिला की बात युवती, उसकी मां व बहन से करायी। पीड़िता का कहना है कि बातचीत के बाद निशांत उसके पीछे ही पड़ गया।

गोमतीनगर में बंधक बना युवती से सामूहिक दुष्कर्म, आरोपी गिरफ्तार

वह अक्सर उससे शादी करने की बात कहता रहा। एक दिन निशांत कार से चालक संग युवती को लेकर अलीगंज के चंदल्रोक कालोनी स्थित दोस्त के घर पर ले गया। आरोप है कि निशांत ने उसके साथ दुष्कर्म किया। पीड़िता ने शारीरिक संबंध की बात मां व परिजनों को बताने की बात कही तो निशांत ने अगले दिन कोर्ट मैरिज करने की बात कहकर उसे चुप करा दिया। उसके बाद निशांत उसे टालता रहा। शक होने पर पीड़िता ने जब पड़ताल की तो पता चला कि निशांत वर्मा नाम का कोई भी शख्स एसडीएम नहीं है। निशांत डॉक विभाग अलीगंज शाखा में एकाउंटेंट है। यही नहीं निशांत ने जो पता युवती को दिया था, वह भी गलत था। निशांत पहले से ही शादीशुदा है और उसके दो बच्चे भी हैं।

इसी दौरान निशांत को पता चला कि पीड़िता उसके बारे में जांच-पड़ताल कर रही है तो उसने फोन कर उसे धमकाया। आरोप है कि आरोपित निशांत ने पीड़िता व उसके परिवारवालों को बदनाम करने की धमकी दी। पीड़िता मामले की शिकायत लेकर गाजीपुर थाने पहुंची। पीड़िता का कहना है कि पुलिस ने मामले की रिपोर्ट तो दर्ज की लेकिन दुष्कर्म की धारा नहीं लगायी। इंस्पेक्टर राकेश सिंह का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper