एसपी सिंह बघेल ने किया AIFTP के राष्ट्रीय सम्मलेन का उद्घाटन

AIFTP के राष्ट्रीय सम्मलेन का उद्घाटन कार्यक्रम के मुख्य अतिथि SP Singh Baghel, Minister of States Law & Justice, द्वारा 25 दिसम्बर को होटल रमाडा में किया गया l कार्यक्रम में विशिष्ट अथिति में रूप में इलाहाबाद उच्च न्यायलय के मुख्य न्यायधीश जस्टिस राजेश बिंदल, व AIFTP के अध्यक्ष अधिवक्ता डी के गाँधी अपने तमाम पदाधिकारियो व अथितियो के साथ मौजूद रहे l

सम्मलेन का उद्देश्य भारत के प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष कर कानूनों का विश्लेषण कर भारत की कर व्ययवस्था को शुद्रिड बनाना है जिसके लिए 25 व 26 दिसम्बर को इस सम्मलेन में देश के तमाम शहरों से आए जाने-माने विशेषज्ञों द्वारा कर दाताओं व कर सलाहकारों को व्याखान दिया जायेगा तथा तमाम उन बातों को केंद्रीय कानून मंत्री, न्यायधीशो, प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष कर बोर्ड के अध्यक्षों के संज्ञान में लाया जायेगा जिससे कर दाता व देश का हित हो l

मुख्य अतिथि व विशिस्ट अथितिओं द्वारा कार्यक्रम के उद्देश्यों व कर सलाहकारों के देश की प्रगति में योगदान की सराहना की गई तथा समयानुसार कर कानूनों में सुधार व बदलाव को भी समर्थन दिया गया तथा ये भी कहा गया कि कर व्यवस्था से कर दाताओं को परेशानी नहीं होनी चाहिए बल्कि उन्हें पर्याप्त सुविधाओं का लाभ मिलना चाहिए l

लाइफ कोच के द्वारा व्यवासिक व पारिवारिक जीवन में सामंजस्य बैठालने के तरीको के साथ साथ देश के तमाम कोनो से आए अतिथिओं के लिए संस्था द्वारा लखनऊ दर्शन व अयोध्या दर्शन का इंतजाम भी किया गया है

1976 में स्थापित इस संस्था में पुरे भारत से करीब 9000 कर सलाहकार सदस्य है व कर कानूनों पर लगातार अलग अलग शहरों में शैक्षिक आयोजन कर के देश की कर व्यवस्था में अपना योगदान देती है, CBDT के अध्यक्ष Sri JB Mohapatra को Incoem tax portal से संबंधित तमाम कमियों को बताया व विवरणी दाखिल करने की तिथि को बढ़ाने हेतु ज्ञापन दिया . लखनऊ में होने वाले इस अधिवेशन में संस्था की राष्ट्रीय कार्यकारणी का भी चुनाव भी संपन्न हुआ जिसमे डॉ डी. के गाँधी (अधिवक्ता) को अध्यक्ष चुना गया l Dileep Yashvardhan द्वारा मीडिया coordination किया गया.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper