एस आर एम एस थिएटर फेस्टिवल इंद्रधनुष रंग महोत्सव के पांचवें दिन जासूसी नाटक “स्लूथ”का मंचन

बरेली: श्री राममूर्ति स्मारक रिद्धिमा में दूसरे थिएटर फेस्टिवल इंद्रधनुष रंग महोत्सव 2022 के पांचवें दिन कल “एकलव्य थिएटर देहरादून” की ओर से नाटक “स्लूथ” का मंचन किया गया। लेखक एन्थनी शैफर लिखित “स्लूथ” के हिंदी रूपांतरित नाटक में मुख्य पात्र कुंवर जयदीप सिंह खानदानी रईस होने के साथ जासूसी उपन्यासकार है। दूसरा मुख्य किरदार मनोज, कुंवर साहब की पत्नी शीला से प्रेम करता है और उससे शादी करना चाहता है। एक दिन कुंवर साहब मनोज को इस शादी की बात को पुख्ता करने के लिये अपने घर बुलाते हैं। वो मनोज को विश्वास दिलाते हैं कि उन्हें शीला और मनोज के शादी करने में कोई एतराज़ नहीं है, लेकिन मनोज को अगर शीला से शादी करनी है तो ज़ाहिर है उसे बहुत पैसों की ज़रूरत होगी क्योंकि शीला फितरत से बहुत खर्चीली है। तो वह मनोज को अपने घर में रखे जेवरात चुराने के लिये राज़ी कर लेते है। वह मनोज को इसको एक खेल की तरह खेलने को कहते हैं क्योंकि उन्हे यह खेल रोमांचित करते हैं। कुंवर साहब इस चोरी को सच दिखाने का पूरा खेल रचते है।

अंततः मनोज चोरी को पूरा कर जा रहा होता है कि तभी कुंवर साहब उसे इस खेल का वास्तविक मकसद समझाते हैं, कि मैंने यह खेल रचा तुम्हारी मौत के लिए, अब देखो तुम मेरे घर में आधी रात को जेवरात के साथ पाये गये हो, और मैं यानी घर का मालिक अपने बचाव में तुम्हे गोली मार देता है। मनोज कुछ समझ नही पाता और कुंवर साहब से इन सबका जवाब मांगता है कि क्यों कर रहे हैं आप ऐसा। अंततः एक ही जवाब मिलता है कि मुझसे मेरी मिलक़ियत कोई नहीं छीन सकता और वह मनोज पर गोली दाग देते हैं। दो दिन बाद कुंवर जयदीप सिंह के घर इंस्पेक्टर मलिक पहुंचता है और मनोज के लापता होने की तहकीकात करने की बात बताता है। जयदीप उसे झूठी कहानी बताता है। लेकिन इंस्पेक्टर उस पर विश्वास न कर तहकीकात करता है। हत्या के सुबूत उसे मिलते हैं। बाद में पता चलता है कि इंस्पेक्टर मलिक ही मनोज है। मनोज बताता है कि उसने जयदीप की प्रेमिका शिखा का खून कर दिया है।

इसी बीच पुलिस आ जाती है। सस्पेंस के खुलासे के साथ नाटक खत्म होता है। अखिलेश नारायण ने जयदीप का मुख्य किरदार निभाने के साथ नाटक का निर्देशन भी किया। तुषार बिष्ट ने मनोज की भूमिका निभायी। इस मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार, एसआरएमएस ट्रस्ट के चेयरमैन देव मूर्ति जी, आशा मूर्ति जी, आदित्य मूर्ति जी, ऋचा मूर्ति जी, गुरु मेहरोत्रा, सुरेश सुंदरानी, रजनी अग्रवाल, डा.एसबी गुप्ता, डा.प्रभाकर गुप्ता, डा.अनुज कुमार, डा.रीटा शर्मा, निशांत अग्रवाल सहित शहर के गण्यमान्य लोग मौजूद रहे।

बरेली से ए सी सक्सेना ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper