ऐसा कौन सा देश है जहां रात नहीं होती है, जाने

नई दिल्ली: आइये आज जानते है ऐसा कौन सा देश है जहां रात नहीं होती है यदि आप भी ऐसी ही विचित्र जगह के बारे में जानना चाहते हैं। तो यह पोस्ट आपके लिए जानकारी भरा होने वाला है क्योंकि इस पोस्ट में आप जानेंगे कि ऐसा कौनसा देश है जहां पर कभी रात नहीं होती है। हमारे देश भारत में सामान्य तौर पर 12 घंटे का दिन और 12 घंटे की रात होती है। लेकिन दुनिया में कई ऐसे देश भी जहां कभी रात नहीं होती तो किसी जगह दिन यानी सूरज नहीं निकलता है। इन जगहों पर सूरज लुका छुपी का खेल खेलता है और खेल भी ऐसा जहां कई महीने गुजर जाते हैं।

ऐसा कौन सा देश है जहां रात नहीं होती

ऐसे देश में लोग अपनी डेली लाइफ कैसे जीते होंगे आप इसका अंदाजा लगा सकते हैं। कभी कभी हम सोचते है कि सूरज को डूबना ही नहीं चाहिए लेकिन प्रकृति के आगे किसी की नहीं चलती है। इसी के कारण जहां दुनिया के लगभग 95 प्रतिशत देशों में नार्मल दिन रात होते हैं। वहीं कुछ देशों में इसके विपरीत दिन रात होते है। यदि आप घूमने फिरने के शौकीन है तो आपको एक बार ऐसी विचित्र जगहों का भी दौरा करना चाहिए। यकीन मानिए ऐसे सफर आपको जिंदगीभर याद रहेंगे।

वैसे तो दुनिया में कई अजूबे है लेकिन ऐसा देश जहां रात नहीं होती है वह भी किसी अजूबे से कम नहीं है। इन देशों में ऐसी जगह के नाम मौजूद है जहां कई महीनों के दिन होते है इसके साथ जब दिन खत्म हो जाते हैं तो काफी दिनों की रात होती है। मतलब यह जगह नार्मल दिन रात से काफी अलग हैं अगर आप सोच रहे हैं कि इन जगहों पर इंसान नहीं रहते होंगे तो आपका सोचना गलत क्योंकि इन जगहों पर बकायदा शहर बसे हुए हैं। हालाकि यह दिन रात अलग होने की वजह से यहां के लोगो की डेली लाइफ थोड़ी अलग होती है तो चलिए जानते है किस देश में रात नहीं होती है।

1. अलास्का

यह आइलैंड कभी रूस का हिस्सा हुआ करता था लेकिन अमेरिका ने इसे रूस से खरीद लिया था तब से यह अमेरिका का हिस्सा है। इसे खूबसूरत ग्लेशियरों का राज्य भी कहा जाता है यहाँ की कई जगहों पर मई से जुलाई के बीच सूरज नहीं डूबता है यानी यहाँ भी कुछ समय के लिए रात नहीं होती है। यहाँ रात को करीब 12:30 बजे सूर्य अस्त होता है और 51 मिनट बाद सूर्योदय भी हो जाता है।

2. कनाडा

दुनिया के सबसे बड़े देशों में से एक कनाडा की कई जगहों पर भी दिन रात का विचित्र चक्र देखने को मिलता है। यह देश साल के कुछ समय तो बर्फ से ढका रहता है पर इसके उत्तर पश्चिमी इलाके में साल में गर्मी के दिनों में दिनों में यहां 50 दिनों तक तो सूर्य डूबता ही नहीं है यहाँ लगातार दिन का उजाला रहता है।

3. फिनलैंड

हजारों झीलों और आयलैंड से बना यह काफी खूबसूरत देश है। गर्मी के मौसम में यहां लगभग 76 दिन तक सूरज नहीं छिपता और यहां दिन का उजाला बना रहता है। इसके साथ ही सूरज रात में भी अपनी रोशनी भी करता रहता है घूमने के साथ गर्मी की छुट्टी बिताने के लिए यह काफी अच्छी जगह है।

4. आइसलैंड

यह यूरोप का ग्रेट ब्रिटेन के बाद दूसरा सबसे बड़ा आयलैंड है। क्षेत्रफल के हिसाब से आइसलैंड दुनिया का 18 सबसे बड़ा द्वीप है कहा जाता है कि यहां 10 मई से लेकर लगभग जुलाई के अंत तक ही सूरज नहीं डूबता है। कुदरत के इस नज़ारे को देखने इस समय लाखों पर्यटक यहाँ पहुँचते है।

5. नार्वे

इसे मध्य रात्रि का देश भी कहा जाता है। चूँकि यह देश आर्कटिक सर्कल के अन्दर आता है ऐसे में यहां दिन रात नार्मल से थोड़े विपरीत होते हैं। यहां मई से जुलाई तक करीब 76 दिनों के लिए सूरज नहीं निकलता है इसकी वजह से नोर्वे में मई जुलाई के महीने में रात नहीं होती है।

6. स्वीडन

इस देश की भूगोलिक स्थिति अलग होने के कारण यहाँ भी दिन रात का समय अलग होता है। स्वीडन की कई जगहों पर मई से अगस्त तक सूरज नहीं डूबता। यहां करीब 100 दिनों तक वहाँ रात नहीं होती है। तो अब आप ऐसा कौन सा देश है जहां रात नहीं होती है इसके बारे में जान गए होंगे यहां हमने आपको ऐसे प्रमुख देशों के बारे में बताया है जहां दिन रात का विचित्र खेल चलता है। अगर आप इसे सिर्फ एक अपवाह मानते थे तो इस पोस्ट से आपको पता चल गया होगा कि दुनिया में सच में ऐसी जगह भी है जहां रात नहीं होती है। अगर आपको घूमना पसंद है तो आपको इन देशों की रात या फिर दिन न होने वाली जगहों पर जरुर जाना चाहिए। यकीन मानिये आपको ऐसी जगह जिंदगीभर याद रहेंगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper