ऐसा देश जहां लड़कियां बन जाती हैं लड़का!

लंदन: आज विश्व में कई तकनीक है जिससे शायद सब कुछ पता लगाया जा सकता है यहाँ तक कि गर्भ में पल रहा शिशु लड़का है या लड़की। भले ही भ्रूण के लिंग की जाँच गैरकानूनी हो। लेकिन इन सब के बीच एक ऐसा देश है जहां गर्भ की तो बात छोडिये यहाँ पर बच्चो के 12 साल की उम्र पहुँचने तक नहीं कहा जा सकता है की यह लड़का है या लड़की। इस देश में लड़कियां 12 की उम्र में लड़का बन जाती है!

लेकिन, डोमिनिकन गणराज्य के एक हिस्से में ऐसा कुछ हो रहा है जो दुनिया में कहीं नहीं होता। यहां तरुणाई की अवस्था यानी 12 साल की उम्र में पहुंचने के बाद लड़कों में लिंग विकसित होता है। इससे पहले लोग इन लड़कों को लड़की समझते हैं। यह जगह डोमिनिकन गणराज्य के दक्षिण पश्चिम में है। एक अलग-थलग पड़ा गांव है, जिसका नाम सालिनास है। बीबीसी की विज्ञान सीरीज ‘काउंटडाउन टू लाइफ-द एक्स्ट्राआर्डनरी मेकिंग ऑफ यू’ में सालिनास के बच्चों की कहानी दिखाई गई है।

टेलीग्राफ डॉट को डॉट यूके के मुताबिक, सालिनास में यह दुर्लभ अनुवांशिकी विकार 90 में से किसी एक बच्चे में सामने आता है। इस गांव में ऐसे बच्चों को ‘गुएवेडोसेस’ कहा जाता है जिसका अर्थ है- 12 की उम्र में लिंग। रिपोर्ट के मुताबिक, इस विकार की वजह एक एनजाइम का न होना है। इस वजह से गर्भाशय में पुरुष सेक्स हारमोन-डिहाइड्रो टेस्टोसटेरोन नहीं बनता है।

इसी वजह से ऐसे बच्चों के पास पैदा होने के वक्त अंडकोष नहीं होता और लगता है जैसे उनके शरीर में योनि है। लेकिन, 12 साल की उम्र में टेस्टोस्टेरोन का उबाल जैसा आता है और पुरुष जननांग उभर कर सामने आने लगते हैं। फिर इन लड़कों की आवाज भारी होने लगती है और आखिर में उनमे एक सामान्य लिंग विकसित होता है। तो, मां के गर्भ में जो होना चाहिए वह 12 साल बाद होता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper