ऑनर किलिंग के दोषी मां-बाप चाचा-चाची को सुनाई फांसी की सजा

रांची: झारखंड के कोडरमा जिले की निचली अदालत (Koderma Court) ने गुरुवार को ऑनर किलिंग (Honor killing Case) मामले में मृतका के माता-पिता और चाची और चाची को फांसी की सजा सुनाई है। हालांकि इस फैसले के खिलाफ हाई कोर्ट (High Court) में अपील किये जाने की बात कही गयी है। जानकारी के अनुसार, अगस्त 2018 को कोडरमा जिले के चंदवारा थाना क्षेत्र अंतर्गत मदनगुड़ी में 20 वर्षीय सोनी कुमारी की हत्या कर दी गयी थी। हत्या के बाद शव को जलाने की भी कोशिश हुई थी, लेकिन पुलिस के मौके पर पहुंच जाने के बाद चिता के ऊपर से शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया था।

15 मार्च को सुनवाई पूरी होने के बाद दिया गया था चारों को दोषी
कोडरमा के जिला एवं सत्र न्यायाधीश रामाशंकर सिंह की अदालत ने मामले की सुनवाई पूरी करने के बाद 15 मार्च को ही मृतका सोनी कुमारी के पिता किसुन साव, माता दुलारी देवी, चाचा सीताराम साव और चाची पार्वती देवी को दोषी करार दिया था। आज सजा के बिन्दु पर सुनवाई करते हुए अदालत ने चारों अभियुक्तों को फांसी की सजा सुनायी।

अंतरजातीय विवाह करना चाहती थी सोनी कुमारी
घटना के बाद से ही चारों अभियुक्त कोडरमा मंडल कारा में बंद थे और आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चारों दोषियों को फांसी की सजा सुनाई गई है। लोक अभियोजक दिनेश चंद्रा ने बताया कि मृतका सोनी कुमारी अंतरजातीय विवाह किया था, जिससे उसके माता-पिता नाराज थे और इसी कारण परिवार के 4 लोगों ने मिलकर उसकी हत्या कर दी थी।

ये था पूरा मामला
मदनगुंडी निवासी 25 वर्षीय प्रदीप शर्मा पिता महेंद्र शर्मा का इसी गांव की सोनी कुमारी से दो वर्ष से प्रेम प्रसंग चल रहा था। दोनों शादी करने को लेकर तैयार थे, पर लड़की के परिजन इसके लिए तैयार नहीं थे। घटना के करीब दस दिन पूर्व दोनों घर से फरार होकर राजस्थान चले गए। वहां 18 मार्च 2018 को भीमाडीह स्थित एक मंदिर में दोनों ने हिंदू रीति-रिवाज से शादी कर ली थी। इसकी जानकारी चंदवारा में परिजनों को भी मिली। शादी के बाद दोनों की तस्वीरें भी सार्वजनिक हुई। इसी बीच लड़की के परिजनों ने स्थानीय मुखिया पति भुनेश्वर पंडित से मुलाकात की और दोनों के बीच रजामंदी से फैसला कराकर रखने की बात कही।

प्रेमी जोड़े चंदवारा वापस लौटे, यहां मुखिया पति की मौजूदगी में युवक ने युवती को सौंप दिया था। इसी रात युवती अपने पिता के घर चली गई थी, जबकि युवक अपने घर। पूरे मामले को लेकर गांव में पंचायत तय की गई थी, पर इससे पहले ही रात युवती की मौत हो गई। शुरुआत में संदिग्ध मौत का मामला सामने आया, पर सूचना पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों ने जब पूरी तहकीकात की तो मामला ऑनर किलिंग का निकला। युवती के गले में निशान पाया गया। घटना को लेकर चंदवारा थाना प्रभारी सोनी प्रताप के बयान पर एक केस दर्ज किया गया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper