ऑनलाइन क्लास से तंग आकर 8वीं की छात्रा ने लगाई फांसी

राजकोट: कोरोना संक्रमण काल में घर की चहारदीवारी के अंदर बैठकर ऑनलाइन क्लास करने और होमवर्क सबमिट करना कई बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य पर भी असर डाल रहा है। अपने क्लास मेट्स से दूर बच्चे मोबाइल स्क्रीन पर चिपककर रह गए हैं। इसका उदाहरण गुजरात के राजकोट में देखने को मिला, जहां 12 साल की एक स्टूडेंट ने फांसी लगाकर अपनी जान दे दी।

राजकोट के जयकिशन स्कूल में 8वीं क्लास की गुजराती मीडियम की छात्रा भावना (बदला हुआ नाम) ने सोमवार को सुबह 10 बजे आत्महत्या कर ली। पुलिस सूत्रों के अनुसार भावना की मां ने उसे स्कूल के होमवर्क असाइनमेंट को पूरा करने को कहा, जिसके बाद वह नहाने की बात कहकर कमरे में चली गई। अधिक समय बीत जाने पर भी जब वह बाहर नहीं आई, तो मां कमरे में गई और बेटी को लटकता हुआ पाया।

भावना को तुरंत हॉस्पिटल लेकर जाया गया, जहां डॉक्टर्स ने उसे मृत घोषित कर दिया। स्कूल प्रिंसिपल मिलन विराडिया ने बताया कि भावना पढ़ाई में ठीक थी और सातवीं क्लास में उसके 72 फीसदी नंबर आए थे। उन्होंने बताया कि सरकार की गाइडलाइन्स के अनुसार ही ऑनलाइन क्लास 10 दिनों पहले शुरू हुई थी। हम यह आश्वस्त कर रहे थे कि कोई भी स्टूडेंट पढ़ाई में डेढ़ घंटे से ज्यादा का समय ना दे। टीचर्स की तरफ से वॉट्सऐप पर 15-20 मिनट लंबे वीडियो भी भेजे जा रहे थे।

भावना, मावडी इलाके में पैरंट्स और 7 साल के भाई के साथ रहती थी। पिता ऑटो गैरेज चलाने के साथ ही गाड़ियों की डीलिंग भी करते हैं। लॉकडाउन की वजह से आर्थिक समस्या आ गई थी लेकिन इसके बावजूद ऑनलाइन क्लास के लिए स्मार्टफोन खरीदकर बेटी को दिया। भावना के मामा जयंतीभाई ने बताया कि वह चश्मा भी लगाती थी, जिस वजह से ऑनलाइन पढ़ाई के दौरान स्मार्टफोन पर अधिक फोकस करने से उसे परेशानी होती थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper