ऑपरेशन के दौरान डॉक्टरों ने पेट में छोड़ दी कैंची, पीड़ित महिला ने तोड़ा दम

इलाहाबाद: उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में डॉक्टरों की लापरवाही का एक ऐसा मामला सामने आया है जिसे सुनकर आप भी चौंक जाएंगे। जी हां यहाँ एक प्राइवेट अस्पताल में एक महिला के ऑपरेशन के दौरान डॉक्टरों ने पेट में ही कैंची छोड़ दी। जिसके कारण महिला के शरीर में इंफेक्शन हो गया और ऑपरेशन के 15 दिन बाद उसकी मौत हो गई।

बताया जा रहा है कि यह मामला इलाहाबाद से लगभग 35 किमी दूर मऊआइमा इलाके के प्राइवेट चाइल्ड अस्पताल का है। जहां संध्या नाम की एक महिला को डिलीवरी के लिए भर्ती कराया गया था। महिला की डिलीवरी के लिए उसका ऑपरेशन किया गया। इस दौरान डॉक्टर ने लापरवाही बरतते हुए महिला के पेट में कैंची छोड़ दी। इसके बाद महिला को पेट दर्द की शिकायत हुई तो उसका अल्ट्रासाउंड कराया गया जिसमें पेट में कैंची होने की बात का खुलासा हुआ।

जैसे ही रिपोर्ट में ये बात सामने आई तो डॉक्टर ने महिला का दोबारा ऑपरेशन करके कैंची बाहर निकाली, लेकिन इस ऑपरेशन के बाद महिला की हालत बिगड़ गई और उसकी मौत हो गई। डॉक्टर की इस लापरवाही से महिला के परिजन भड़क गए और उन्होंने आरोपी डॉक्टर के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। डॉक्टर के खिलाफ केस दर्ज करते हुए पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

इसे भी पढ़िए: कांग्रेस ने मोदी की सीप्लेन यात्रा को ‘हवा हवाई’ कह ली चुटकी 

इस मामले में पुलिस अधिकारियों का कहना है कि अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की जाएगी। फिलहाल इस मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं की गई है। मामले की गंभीरता को देखते हुए यूपी के डिप्टी सीएम केशव मौर्य ने जांच के आदेश दे दिए हैं। उनका कहना है कि अगर जांच में डॉक्टर दोषी पाया गया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है।

आपको बता दें कि यह कोई पहला मामला नहीं है इससे पहले भी कई तरह के मामले सामने आ चुके हैं। लेकिन स्वास्थ्य विभाग इन निजी अस्पतालों पर कारवाई करने के बजाय मामले को ठंडे बस्ते में डाल देता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper