ओडिशा में किसानों को मिली बड़ी सौगात, सरकार ने 37 लाख अन्नदाताओं में बांटे 743 करोड़ रुपए

भुवनेश्वर: ओडिशा में कृषि त्योहार ‘नुआखाई’ के अवसर पर नवीन पटनायक सरकार ने किसानों को बड़ी सौगात दी है। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने शनिवार को कृषि त्यौहार ‘नुआखाई’ के अवसर पर राज्य की प्रमुख कालिया योजना के तहत 37 लाख से अधिक छोटे और सीमांत किसानों के बीच 743 करोड़ रुपये का वितरण किया। इस तरह से प्रत्येक लाभार्थी के खाते में ₹2000 की राशि जमा कर दी गई है। इस मदद से सरकार ने छोटे और गरीब किसानों को बड़ी राहत दी है।

इस मौके पर मुख्यमंत्री पटनायक ने कहा कि किसानों की समस्या हम सबकी समस्या है। किसानों की समस्या पूरे राज्य के लिये चिंता का विषय है । ओडिशा के किसानों के लिये उर्वरकों की अपूर्ति के मद्देनजर मैं लगातार केंद्र सरकार के संपर्क में हूं। हमने धान के न्यूनतम समर्थन मूल्य और प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत लाभों के वितरण की ओर भी केंद्र का ध्यान आकर्षित किया है।

उन्होंने आगे कहा कि किसानों को प्रभावित करने वाले मुद्दों को हमारी सरकार द्वारा कभी भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है और उनकी सरकार उर्वरक की कमी को हल करने के लिए केंद्र के संपर्क में है। पटनायक ने 31 जुलाई को केंद्र को लिखे पत्र में कहा था कि मई, जून और जुलाई महीने में उर्वरकों की आपूर्ति में कमी आई है।

इस साल कम बारिश पर प्रकाश डालते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अगस्त में कम बारिश हुई है। उन्होंने उम्मीद जताई कि बारिश जारी रहने से स्थिति में सुधार होगा। उन्होंने कहा कि सरकार स्थिति पर नजर रखे हुए है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कालिया योजना किसानों के कल्याण के लिए देश में सबसे अच्छी योजना है और भूमिहीन किसानों को सहायता प्रदान करने वाला ओडिशा देश का एकमात्र राज्य है।

उन्होंने कहा कि इस योजना से लाखों छोटे किसान लाभान्वित हो रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि कोरोना महामारी की शुरुआत के बाद से राज्य सरकार ने योजना के तहत किसानों को ₹ 3,200 करोड़ से अधिक प्रदान किए हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper