ओपी राजभर ने कांवड़ यात्रा पर उठाए सवाल, सड़क पर नमाज पढ़ने से रोक पर भड़के

लखनऊ: सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के प्रमुख और समाजवादी पार्टी गठबंधन के साथ ओम प्रकाश राजभर ने लाउडस्पीकर विवाद को लेकर कहा है कि डीजे और रैलियों में भी लाउडस्पीकर पर बैन लगा दिया जाए। उन्होंने कहा कि सरकार मंहगाई और बेरोजगारी से ध्यान भटकाने के लिए ऐसा कर रही है। सड़क पर नमाज पढ़ने पर रोक को लेकर राजभर ने कांवड़ यात्रा पर भी सवाल उठा दिए।

राजभर ने कहा, संविधान सभी को अपने-अपने हिसाब से पूजा की आजादी देता है। सरकार मंहगाई और बेरोजगारी से ध्यान भटकाने के लिए ये हथकंडे अपना रही है। एक तरफ तो मस्जिद से लाउडस्पीकर उतारे जा रहे हैं, लेकिन शादियों में डीजे पर क्यों नहीं रोक लगा रहे हैं।” राजभर ने राजनीतिक रैलियों में भी लाउडस्पीकर पर सवाल उठाए और कहा कि भाजपा में हिम्मत है तो रैलियों में भी लाउडस्पीकर पर रोक लगाए।

राजभर ने कहा, ”सरकार कह रही है कि सड़क पर नमाज नहीं पढ़ सकते, मस्जिद में भीड़ होती है, इसलिए बाहर आकर लोग नमाज पढ़ते हैं। आ रहा है ना कांवड़ यात्रा वह कहां करेंगे अंदर या बाहर? सड़क पर ही होगा ना? कितने देर तक लोग नमाज पढ़ते हैं? दूसरे तरफ देखिए कांवड़ यात्रा में सड़क पर कब्जा कर लिया जाता है। लोग चल नहीं पाते हैं।”

राजभर ने कहा, ”बच्चों को पढ़ने लिखने के लिए प्रेरित करना चाहिए। केवल कांवड़ यात्रा लेकर चलते रहोगे तो कुछ नहीं बन पाओगे। आज पिछड़े दलित ही हिंदू हैं ना, ब्राह्मण कभी खुद को हिंदू नहीं कहता है। कांवड़ यात्रा में शूद्र ही जाते हैं। क्या एक भी ब्राह्मण का बेटा जाता है?”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper