ओम नमः शिवाय

हर साल फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि पर मनाया जाने वाला शिव पूजा का पर्व महाशिवरात्रि इस बार 21 फरवरी को है। जब सूर्य कुंभ राशि और चंद्र मकर राशि में होता है, तब फाल्गुन मास कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को यह पर्व मनाया जाता है। 21 फरवरी की शाम 5.36 बजे तक त्रयोदशी तिथि रहेगी, उसके बाद चतुर्दशी तिथि शुरू होगी। इस बार महाशिवरात्रि पर 117 साल बाद शनि और शुक्र का दुर्लभ योग बन रहा है, क्योंकि शनि अपनी स्वयं की राशि मकर में और शुक्र ग्रह अपनी उच्च राशि मीन में रहेगा। यह एक दुर्लभ योग है, जो इससे पहले 25 फरवरी, 1903 को महाशिवरात्रि पर बना था। इसके अलावा इस साल गुरु भी अपनी स्वराशि धनु राशि में स्थित है। इस योग में शिव पूजा करने पर शनि, गुरु, शुक्र के दोषों से भी मुक्ति मिलेगी। साथ ही 21 फरवरी को सर्वार्थ सिद्धि योग भी रहेगा। पूजन के लिए और नए कार्यों की शुरुआत करने के लिए यह योग बहुत ही शुभ होता है।
21 फरवरी को बुध और सूर्य कुंभ राशि में एक साथ रहेंगे, इससे बुधादित्य योग बनेगा। इसके अलावा इस दिन सभी ग्रह राहु-केतु के मध्य रहेंगे, जिससे सर्प योग भी बन रहा है। साथ ही 21 फरवरी को शनि के साथ चंद्र भी रहेगा। शनि-चंद्र की युति की वजह से विष योग बन रहा है। इस साल से पहले करीब 28 साल पहले महाशिवरात्रि पर विष योग 2 मार्च, 1992 को बना था। इस योग में शनि और चंद्र के लिए विशेष पूजा करनी चाहिए। महाशिवरात्रि पर यह योग बनने से इस दिन शिव पूजा का महत्व और अधिक बढ़ गया है। कुंडली में शनि और चंद्र के दोष दूर करने के लिए महाशिवरात्रि को शिव पूजा जरूर करें।
भगवान शिव की पूजा करते समय बिल्वपत्र, शहद, दूध, दही, शक्कर और गंगाजल से अभिषेक करना चाहिए। ऐसा करने से व्यक्ति की सभी समस्याएं दूर होकर उसकी इच्छाएं पूरी होती हैं।

दूर होते हैं सभी कष्ट

जीवन में कई बार ऐसे मौके आते हैं जिसमें सबसे ज्यादा परेशानी और हताशा होती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जब व्यक्ति की कुंडली में अशुभ योग और ग्रह दोष होता है, तब ऐसी परेशानियां आती हैं। इस तरह की तकलीफों से छुटकारा पाने के लिए महाशिवरात्रि का दिन बहुत शुभ माना गया है। आइए हम आपको बताते हैं कुछ उपाय, जिन्हें करके आप अपने कष्ट दूर कर सकते हैं।
नौकरी, बिजनेस और पढ़ाई में आने वाली बाधा को दूर करने के लिए महाशिवरात्रि पर शिवलिंग पर दूर्वा घास चढ़ाएं।
मानसिक परेशानी दूर करने के लिए शिवलिंग पर दूध अॢपत करना चाहिए।
समाज में अपना मान-सम्मान बढ़ाने के लिए महाशिवरात्रि पर शिवलिंग पर चंदन का लेप लगाएं और जल चढ़ाएं।
अगर आप अक्सर बीमार रहते हैं, तो भगवान शिव को धतूरा चढ़ाएं।
अगर आपकी शादी नहीं हो रही है या फिर पति-पत्नी में मनमुटाव रहता है, तो शिवलिंग पर बेलपत्र चढ़ाएं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper