कई लोग घर से ही नहीं निकले, फिर भी हो गए शिकार, जानिए कैसे फ़ैल गया संक्रमण!

भोपाल: व्यापक तैयारियों और कोशिशों के साथ ही लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने के बावजूद इंदौर शहर में फैले संक्रमण को लेकर चिंता में आए प्रशासन ने कान्ट्रेक्ट हिस्ट्री पता लगाने की कोशिश की तो कई संक्रमित मरीजों के बारे में पता चला कि वे घर से बाहर ही नहीं निकले, फिर भी संक्रमण का शिकार हो गए। इन लोगों में कुछ घर की महिलाएं तो कुछ वृद्धजन भी शामिल थे। इन लोगों से जानकारी के दौरान ही पता चला है कि लॉकडाउन के दौरान कुछ लोगों के घरों में सब्जियां आई तो खुला दूध भी इन्होंने उपयोग में लिया। इसके अलावा घर में काम करने वाले लोगों की आवाजाही भी संक्रमण का कारण नजर आई।

भोपाल शहर में वैसे तो लॉकडाउन 22 और उसके बाद 25 अप्रैल से लागू हो गया था, लेकिन लोगों ने उसका पालन गंभीरता से नहीं किया। आलम यह है कि घर की महिलाएं जहां सब्जियों के लिए आतुर नजर आती है, वहीं पुरुष दिनभर घर में बैठा सब्जियों की जुगाड़ करते हैं और सब्जियां हासिल करने को अपनी जीत मानते हैं। इसी क्रम में कई बार घरों से निकलकर वो बस्तियों में जा पहुंचते हैं, तो कहीं चोरी छिपे गलियों में घूमते उन सब्जी वालों से सब्जियां खरीद लेते हैं, जिन्हें वे जानते तक नहीं हैं। लोगों की इसी ललक के चलते कई घरों में सब्जियों के साथ संक्रमण पहुंच जाता है।

क्योंकि सब्जियां कई हाथों से गुजरकर घरों तक पहुंच रही है। इसी तरह दूध भी ग्वालों द्वारा नंगे हाथों से निकाला जाता है और टंकियों से लेकर घरों तक पहुंचते पहुंचते वह कई हाथों के स्पर्श से गुजरता है। ऐसे में यदि एक भी संक्रमित व्यक्ति दूध पहुंचाने की प्रक्रिया में शामिल रहा तो वह कई लोगों को संक्रमित कर सकता है। इसके अलावा अभी भी कई लोगों के घरों में काम करने वालों का आना जाना बरकरार है। ऐसे लोग भी संक्रमण को आमंत्रण दे रहे हैं और फिर जब उनके घर का कोई व्यक्ति संक्रमित होकर अस्पताल जाता है तो उनके समझ में नहीं आता है कि वे कैसे कोरोना के शिकार हुए।

दूध के संक्रमण से खुद को बचाने के लिए खुला दूध घर में आने के बाद उसे उबाले और जिस पतीले में दूध लाया गया है, उसे भी अच्छी तरह साफ करें। यदि दूध पैकिंग वाली थैली में लाया गया है तो पहले थैली को धोए और उसके बाद उसे खोले। कच्चा दूध किसी भी सूरत में काम मे न लावे।

सब्जियां लाने के बाद उसे घर के आंगन में हीरखकर पहले पानी में खाने का सोड़ा डालकर उसे कुछ घंटों पड़े रहने दे। फिर उसके बाद दो बार साफ पानी से धोवें। इसके अलावा उन सब्जियों से परहेज करे, जिनका छिलका नहीं होता है, छिलके वाली सब्जियों का छिलका उतरने के बाद उसमें संक्रमण के अलावा अन्य जीवाणुओं या कीटनाशक दवाइयों का प्रभाव भी समाप्त हो जाता है। प्रयास यह करें कि फिलहाल भाजियों जैसे मैथी, पालक, कोथमीर का उपयोग न करें।

घर में काम करने वालों से भी सावधानी बरतना आवश्यक है। यदि घर में काम करने वाले महिला पुरुष बहार से आते हैं तो घर में प्रवेश के पहले उनके हाथ-पैर धुलवा कर उन्हें आने दें और किचन में तो प्रवेश ही न करने दें। कुछ दिनों के लिए घर के पुरुष और महिलाएं ही किचन का काम करें तो बेहतर होगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper