कटनी में पटरी से उतरे पैसेंजर ट्रेन के पांच डिब्बे, दो घायल

कटनी। जबलपुर रेल मंडल के कटनी-सिंगरौली रेलखंड के सलहना और पिपरिया कलां रेलवे स्टेशन के बीच बीती देर रात कटनी से चोपन जा रही पैसेंजर ट्रेन के पांच डिब्बे पटरी से उतर गए। हादसे में आधे दर्जन से अधिक लोगों को चोटें आयी जिसमें दो लोग की हालत गंभीर है, जिन्हें नजदीकी गांव बरही के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती किया गया है, जहां उनका उपचार जारी है। हादसे का कारण पटरी में क्रैक आना बताया गया है। सूचना मिलने पर रेलवे का स्टॉफ तुरंत मौके पर पहुंचा और डिब्बों को पटरी से हटाने का काम शुरू किया। रविवार सुबह डिब्बे हटाकर रेल यातायात को बहाल कर दिया गया।

बीते शनिवार को देर रात को ट्रेन नम्बर 51675 चोपन-कटनी-भुसावल पैसेंजर ट्रेन कटनी से सिंगरौली की तरफ जा रही थी। इसी दौरान रात करीब 10 बजे पैसेंजर के पांच डिब्बे जबलपुर सलहना और पिपरिया स्टेशन के बीच पटरी से उतर गए और तिरछे होकर पलटने जैसी स्थिति में आ गए, लेकिन पलटने से बच गए। डिब्बे जैसे ही पटरी से उतरे, तो ट्रेन झटके के साथ वहीं रूक गई और बड़ा हादसा होने से टल गया। झटके के कारण आधे दर्जन से अधिक लोगों को चोटें आयी जिसमें दो यात्रियों को ज्यादा चोटें आई हैं, जिन्हें तुरंत एम्बुलेंस से बरही के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती किया गया, जहां उनका उपचार किया जा रहा है।

सूचना मिलने पर जबलपुर और कटनी स्टेशन से मेडिकल ट्रेन, डॉक्टरों के अलावा अन्य स्टॉफ घटनास्थल पर पहुंचे और राहत और बचाव कार्य में जुट गये । यह हादसा डाउन ट्रैक पर हुआ, जिसके चलते इस ट्रैक पर यातायात रोक दिया गया है। रेलवे के तकनीकी स्टाफ ने रात में ही ट्रैक से डिब्बों को हटाने का काम शुरू कर दिया। हालांकि अंधेरे के कारण थोड़ी दिक्कतें हुईं, लेकिन क्रेन की मदद से रविवार सुबह तक सभी डिब्बे पटरी से अलग कर दिए गए और यातायात बहाल किया गया। फिलहाल, कटनी-जबलपुर लाइन पर ट्रेनों का सुचारू संचालन शुरू कर दिया गया है। रेलवे के तकनीकी स्टॉफ का कहना है कि गर्मी के कारण ट्रैक क्रैक हो गया था, जिसके चलते यह हादसा हुआ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper