कत्ल के सात महीने बाद भी ऑनलाइन थी महिला, सच खुलने पर पुलिस भी हैरान

नई दिल्ली: यूपी के गोरखपुर में एसटीएफ ने चर्चित डॉक्टर डीपी सिंह को उसकी पूर्व पत्नी की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया है। आरोपी ने पुलिस की पूछताछ की कबूल किया कि उसने सात महीने पहले अपनी पूर्व पत्नी राखी को नेपाल के पोखरा में पहाड़ से खाई में ढकेल दिया। हत्या के बाद सजा से बचने के लिए कई महीनों पर राखी के सोशल मीडिया अकाउंट को अपडेट करता रहा ताकि उस पर किसी को शक न हो।

आरोपी डॉ ने पुलिस की पूछताछ में बताया कि राखी उसे ब्लैकमेल कर रही थी जिस कारण वह परेशान हो चुका था। हत्या के कई दिनों बाद वह घरवालों को गुमराह करता रहा। लेकिन इस हत्याकांड का खुलासा तब हुआ जब राखी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज हुई। शुरूआती जांच में पुलिस ने राखी के दूसरे पति मनीष सिन्हा को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की, लेकिन पुलिस को कुछ हासिल नहीं हुआ। जांच एसटीएफ के पास पहुंची, तो पुलिस ने राखी के पहले पति डॉक्टर डीपी सिंह से पूछताछ की, जिसके बाद मामले का खुलासा हुआ।

मामले की जानकारी देते हुए पुलिस ने बताया कि राखी अपने पति मनीष सिन्हा के साथ फ्लाइट से नेपाल गई थी। फिर वह नेपाल में ही रुक गई और मनीष लौट आया। उसी दौरान राखी से बातचीत के बाद डॉ. डीपी सिंह भी अपने दो कर्मचारी प्रमोद कुमार सिंह तथा देशदीपक के साथ नेपाल पहुंच गए थे। राखी को लेकर तीनों पोखरा गए वहां उसे शराब में नशीली दवा पिलाकर तीनों ने मिलकर पहाड़ से ढकेल कर उसकी हत्या कर दी।

पुलिस ने बताया कि डॉक्टर डी.पी सिंह ने अपनी पहली पत्नी को बिना बताए राखी से शादी की थी। फिर जब डॉ. डीपी सिंह की पहली पत्नी ऊषा सिंह को इस बारे में जानकारी लगी तो विवाद शुरू हुआ, जिसके बाद डॉक्टर ने राखी से किनारा कर लिया और साल 2016 में बिहार के रहने वाले मनीष सिन्हा से दूसरी शादी कर ली। पहली पत्नी से विवाद के बाद जब डॉक्टर ने फिर राखी से बातचीत शुरू की, तो उसने ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया। जिसके बाद डाक्टर के उसकी हत्या कर दी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper