‘कबूतरबाजी’ में दलेर मेहंदी को दो साल की सजा, गिरफ्तारी के बाद मिली बेल

पटियाला: मशहूर पंजाबी गायक दलेर मेहंदी को शुक्रवार को पंजाब की पटियाला कोर्ट ने मानव तस्करी (कबूतरबाजी) के मामले में दोषी करार दिया है। उन्हें गैर कानूनी तरीके से लोगों को विदेश पहुंचने के मामले में दोषी पाया गया है। मेहंदी को दो साल की सजा सुनाई गई है। सजा के ऐलान के बाद ही उन्हें हिरासत में ले लिया गया है।

हालांकि, कुछ ही देर बाद उन्हें बेल भी मिल गई। बता दें कि 19 सितंबर, 2003 में शमशेर मेहंदी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। शमशेर मेहंदी, दलेर मेहंदी के बड़े भाई हैं। पूछताछ में दलेर मेहंदी का नाम भी इस मामले में आया था। 2003 में ही उनके खिलाफ केस दर्ज किया गया था। अब 15 साल बाद इस मामले में फैसला आया है।

19 सितंबर 2003 में दर्ज हुई थी एफआईआर

उन पर गैरकानूनी तरीके से लोगों को विदेश ले जाने का आरोप था। जांच के बाद मानव तस्करी से जुड़े उनके खिलाफ 30 से अधिक मामले पाए गए थे। इसमें पहला मामला अमेरिका में 2003 में ही दर्ज किया गया था। आरोप था कि दलेर मेहंदी जब अपने शो के लिए विदेश जाते थे, तो कई लोगों को वह अपने साथ विदेश ले जाते थे। दलेर मेहंदी के खिलाफ ये मामला बख्शीश सिंह नामक शख्स ने दर्ज करवाई थी।

आरोप था कि दलेर मेहंदी ने लोगों से कई सारे पैसे लिए थे। अपने भाई के साथ 1998-99 के दौरान 10 लोगों को गैरकानूनी रूप से विदेश ले गए थे। गौरतलब है कि दलेर मेहंदी ने अपने करियर में कई हिट गाने दिए हैं। वैसे तो दलेर का मूल नाम दलेर सिंह है, मगर वह अपने दलेर मेहंदी के नाम से ही ज्यादा जाना जाते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper