कब और कहां ज्यादा काटते हैं डेंगू के मच्छर? जानिए इसके लक्षण और इलाज

इस मौसम में विशेष सावधानी रखने की सभी को बहुत आवश्यकता है. कोरोना के अलावा आजकल डेंगू अपना कोहराम बरसा रहा है. यह बड़ा ही खतरनाक और जानलेवा है. जैसा कि हम सभी जानते हैं डेंगू “एडीज” मच्छर के काटने से होता है. वर्तमान में देश में दिल्ली, नोएडा और गुड़गांव में डेंगू के मरीज 10 गुना से भी ज्यादा बढ़ चुके हैं. यह मच्छर सीधा हमारी शरीर की प्रतिरोधक क्षमता पर आक्रमण करते है, और रातों-रात ही हमारे शरीर की प्लेटलेट्स कम कर देते हैं जिनसे जान भी जा सकती है.

डेंगू मच्छर के द्वारा फैलाया गए वायरस भी चार प्रकार के होते हैं. Den-1, Den-2, Den-3, Den-4 इन सभी सभी को संयुक्त रूप से “सीरोटाइप” कहा जाता है. चारों ही अलग तरह से हमारे शरीर की एंटीबॉडी को प्रभावित करते हैं. जिनसे यदि बचाव ना किया जाए तो हमें भारी पड़ सकता है.

क्या-क्या है डेंगू के लक्षण?- डेंगू में मच्छर के काटने के लगभग 4 दिन बाद इसका असर होना शुरू होता है. जिसका असर 10 दिन तक रह सकता है. इसमें संक्रमित व्यक्ति को अचानक ही तेज बुखार और तेज सिर दर्द शुरू हो जाता है. केवल इतना ही नहीं इससे आंखों के पीछे दर्द और जोड़ों और मांसपेशियों में भी तेज दर्द हो सकता है. इससे शरीर में भयंकर दर्द होने शुरू हो जाते हैं. किसी- किसी को उल्टी की शिकायत भी हो सकती है.

कब ज्यादा काटते हैं डेंगू के मच्छर?- डेंगू के मच्छर सबसे ज्यादा दोपहर के समय काटते है. यह सूर्योदय के 2 घंटे बाद तक सबसे ज्यादा एक्टिव होते हैं. इसके अलावा सूर्यास्त से 1 घंटे पहले भी यह मच्छर ज्यादा काटते हैं. कभी-कभी ये रात में भी ज्यादा एक्टिव होते हैं. डेंगू के मच्छर आर्टिफिशियल लाइट से ज्यादा आकर्षित होते हैं.

यानी कि जहां सूर्य की रोशनी ज्यादा नहीं पहुंचती और कृत्रिम रोशनी का उपयोग किया जाता है वहां डेंगू के मच्छर काटने का खतरा भी ज्यादा बढ़ता है. आपके ऑफिस, मॉल और इनडोर ऑडिटोरियम जैसी जगहों पर जहां अत्यधिक कृत्रिम लाइट का प्रयोग किया जाता है, इनके काटने का खतरा भी यहां ज्यादा बढ़ जाता है.

क्या है डेंगू का इलाज- वैसे तो डेंगू का कोई खास इलाज नहीं है. इसमें व्यक्ति को उसके लक्षणों के अनुसार अलग-अलग प्रकार से दवाइयां दी जाती है. यदि प्लेटलेट्स ज्यादा कम हो जाती है तो व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती भी किया जा सकता है.

इससे शरीर में पानी की कमी हो जाती है इसलिए हमें ज्यादा से ज्यादा पानी पीना होता है. व्यक्ति को खूब आराम भी करना चाहिए इसके साथ ही उसे नारियल पानी, गिलोय, पपीता, कीवी, अनार और चुकंदर लेने चाहिए. बकरी का दूध लेने से भी डेंगू का जल्दी समाधान हो सकता है.

क्या है बचाव के उपाय?- आप व्यर्थ ही डेंगू की पीड़ा झेले इससे तो अच्छा है कि आप थोड़े बचाव कर लें ताकि इस जानलेवा बीमारी से दूरी बनी रहे. इसके लिए आपको अपने आप को केवल मच्छर के काटने से बचाना है. आप पूरी सावधानी बनाए रखें कि आपको मच्छर नहीं काटे.

यदि आपके घर के आसपास मच्छर पनप रहे हैं तो कीटनाशक के द्वारा उनका नाश कर दें. इसके अलावा फुल बाजू के ही कपड़े पहने. यदि घर में कहीं गमले में, कूलर में पानी भरा हुआ है तो उसे खाली करके सुखा दे.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper