करवा चौथ पर महिलाएं रखें इन बातों का विशेष ध्यान

लखनऊ: कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ कहते हैं। इस दिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए करवा चौथ का व्रत रखती हैं। यह व्रत पति के दीर्घायु के लिए रखा जाता है। इस वर्ष करवा चौथ दिनांक 17 अक्टूबर को पड़ रहा है। इस दिन महिलाएं पूरे दिन निराजल व्रत रखकर रात्रि में चंद्र दर्शन के बाद उसे अर्ध्य देकर व्रत खोलती हैं।

महिलाएं रखें इन बातों का विशेष ध्यान

महिलाएं अपने मन को शांत रखकर ही करवा चौथ का व्रत की शुरुआत करें। इस दिन घर में शांति और सद्भाव बनाए रखने से माता लक्ष्मी भी प्रसन्न होती हैं। इस दिन वाद-विवाद और कलह से दूर रहना चाहिए। किसी सुहागन को बुरा भला कहने की गलती ना करें। महिलाएं सुहाग सामग्री जैसे चूड़ी, बिंदी, सिंदूर आदि इन चीजों को दान करें। भूलकर भी इन चीजों को कचड़े में नहीं फेकें। इस दिन पूर्ण श्रृंगार और पूर्ण भोजन जरूर करना चाहिए।

सुहागन महिलाएं इस दिन किसी को भी दूध, दही चावल कोई भी सफेद चीज का दान नहीं करना चाहिए। सफेद का संबंध चंद्रमा से है। माना जाता है कि सफेद चीज के दान से चंद्रमा नाराज हो जाता है और अशुभ फल देते हैं। इस दिन मां गौरी को हलवा-पूरी का भोग जरूर लगाएं और उस प्रसाद को अपनी सास या फिर घर में अन्य कोई बुजुर्ग महिला को जरूर दें। अगर कोई नहीं है तो मंदिर में दान कर दें।

करवा चौथ के दिन सिलाई, कटाई, बुनाई का काम नहीं करना चाहिए, साथ ही सूई, चाकू जैसी चीजों से दूर रहना चाहिए। साथ ही अगर कोई व्यक्ति रूठा हुआ है तो उसको मनाने ना जाएं। व्रत करने वाली महिलाएं इस बात का ध्यान रखें कि किसी भी सोते हुए व्यक्ति को ना उठाएं। साथ ही इस दिन कुछ महिलाएं समय व्यतीत करने के लिए जुआ भी खेलती हैं। ऐसा भूलकर भी ना करें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper