कर्ज में डूबा हुआ है ‘माउंटेन मैन’ दशरथ मांक्षी का परिवार, काम है, ना ही गुजारा करने के लिए पैसे

पटना: शायद ही कोई होगा, जो ‘माउंटेन मैन’ दशरथ मांक्षी को नहीं जानता होगा. ना सिर्फ़ उन पर कई फिल्में बनीं, बल्कि उनके नाम पर अस्पताल, और सड़क तक बनाए गए हैं. यहां उन्हीं दशरथ मांक्षी की बात हो रही है, जिन्होंने प्यार के खातिर पहाड़ को काट रास्ता बना डाला था. दुर्भाग्य से आज उनका परिवार कर्ज में डूबा हुआ है.

उनके पास ना काम है, ना ही गुजारा करने के लिए पैसे. परिवार ने दशरथ मांझी की दो साल की नातिन पिंकी के लिए कर्ज लिया था, जिसे चुकाने की हालात में फिलहाल वो नहीं है. नातिन पिंकी को अभी भी इलाज की ज़रूरत है. मगर उसके परिवार के पास पैसे नहीं हैं. मिली जानकारी के मुताबिक, लॉकडाउन ने दशरथ मांझी के नाती का काम छीन लिया और वो मद्रास से अपने घर लौटने को मज़बूर हो गए थे.

इसी बीच दो साल की पिंकी कुमारी एक रोड एक्सीडेंट का शिकार हो गई. इस दुर्घटना में उसका एक हाथ और एक पैर टूट गया था. जिसके इलाज के लिए पैसों की ज़रूरत थी. मज़बूरन परिवार वालों को गांव के संपन्न लोगों से कर्ज लेना पड़ा था. अब चूंकि, दशरथ मांझी का नाती अभी भी बेरोजगार है, इसलिए उसके पास कर्ज चुकाने तक के पैसे नहीं है. पूरा परिवार एक-एक पैसे का मोहताज हो गया हैं. अब उन्हें बस सरकार से मदद की उम्मीद है.

बताते चलें कि माउंटेन मैन के बेटे भगीरथ मांझी को वृद्ध पेंशन का लाभ मिलता था, जोकि अब बंद हो चुका है. वहीं, बॉलीवुड फिल्म निर्माताओं की तरफ से दशरथ मांझी पर बनी फिल्म की रॉयल्टी के रूप में उनके परिवार को कुछ नहीं दिया गया. जैसे-तैसे ‘माउंटेन मैन’ दशरथ मांक्षी का परिवार अपना जीवन यापन कर रहा था. इसी बीच कोरोना लॉकडाउन का ऐलान हो गया और उनके सामने भुखमरी का संकट खड़ा हो गया

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper