कर्ज से परेशान पूरा परिवार हुआ खत्म, कुएं में कूदकर की खुदकुशी

बैतूल: बैतूल शहर के बारस्कर कॉलोनी निवासी और सेंट्रल बैंक बैतूल की केश वाहन के ड्रायवर विनोद बारस्कर, उनकी पत्नी सुशीला और 4 वर्षीय मासूम पूर्वी के शव जिला मुख्यालय से लगभग 30 किलोमीटर दूर सांईखंडारा जावरा के बीच एक किसान किशन साकरे खेत में बने कुएं में मिले। बताया जा रहा है कि पूरा परिवार कर्ज से परेशान था, जिसके चलते उन्होंने कुएं में कूदकर खुदकुशी कर ली। फिलहाल, पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

जानकारी के मुताबिक, विनोद बारस्कर का परिवार मंगलवार को सुबह बारस्कर कॉलोनी स्थित अपने घर से बेटी को अस्पताल ले जाने का कहकर निकला था। इसके बाद वे सांईखेड़ा- जावरा तक कैसे पहुंचे और कुएं में क्यों कूदे यह किसी को नहीं पता। हालांकि मृतक के घर पहुंचे उनके दूध वाले को दरवाजा खुला दिखाई देने पर वह मकान मालिक के साथ अंदर गया, तो एक पत्र मिला, जिसमें लिखा था कि दो लाख से ज्यादा कर्ज है और कर्ज वाले परेशान कर रहे हैं, इसलिए परिवार सहित आत्महत्या कर रहे हैं।

पत्र में उल्लेख किया है कि सुबह पुत्री ने जहर खाने से मना कर दिया, इसके लिए इरादा बदला और फिर परिवार ने बैतूल शहर से लगभग 35 किलोमीटर दूर जाकर कुएं में कूदकर आत्महत्या कर ली। मकान मालिक ने उक्त पत्र कोतवाली पुलिस को सौंपा और साथ ही विनोद के परिजनों को भी इसकी सूचना है। कोतवाली पुलिस ने मंगलवार को गुम इंसान की कायमी की थी, लेकिन शाम को तीनों के शव सांईखेड़ा थाना क्षेत्र के ग्राम जावरा और सांईखंडारा के बीच मिल गए।

फिलहाल, सांईखेड़ा पुलिस ने मर्ग कायम कर बुधवार को सुबह जिला अस्पताल में पोस्टामार्टम करवाया और मामले की जांच शुरू की। तीनों मृतकों ने कुएं में कूदकर जान दी या किसी ने उन्हें कुएं में डाला इसका खुलासा नहीं हो पाया है। पुलिस प्रत्येक पहलू की जांच कर रही है।

किसान को कुएं में दिखे शव

सांईखेड़ा थाना क्षेत्र के ग्राम सांई खंडारा और जावरा के बीच किशन पिता लीलाधर साकरे के खेत में मंगलवार को किशन साकरे दवाई छिडक़ाव करने गया था। किशन को अपने खेत के कुएं में तीन शव दिखाई देने पर उसने ग्रामीणों और सांईखेड़ा पुलिस को इसकी सूचना दी। कुएं में तीन शव दिखाई देने से कुएं के पास सैकड़ों लोगों की भीड़ जमा हो गई। पुलिस ने खेत पहुंचकर तीनों शव को ग्रामीणों की सहायता से बाहर निकाला। मृतकों के पास मिले आधार कार्ड और एटीएम से उनकी शिनाख्त विनोद पिता गोविंदराव बारस्कर (38) उनकी पत्नी सुशीला बारस्कर (31) और चार वर्षीय मासूम पुत्री पूर्वी बारस्कर निवासी ग्राम सावंगी मासोद हाल निवासी बारस्कर कॉलोनी बैतूल के रूप में हुई।

विनोद बारस्कर के परिवार सहित लापता होने की खबर मिलने के बाद उनके कई रिश्तेदार बैतूल के लिए निकल गए। कुछ बैतूल आ गए। वहीं कुछ रिश्तेदार बैतूल आ रहे थे। इस दौरान सांईखेड़ा जावरा के पास सडक़ किनारे भीड़ देखकर रूक गए। वहां जाकर देखा तो विनोद, सुशीला और पूर्वी के शव थे जिन्हें ढूंढने वे जा रहे थे। उन रिश्तेदारों ने सभी रिश्तेदारों को कुएं में शव मिलने की सूचना दी।

पांच वर्ष पूर्व हुआ था विवाह

मृतक विनोद बारस्कर का विवाह 20 मई 2013 को ग्राम कान्हाखापा निवासी सुशीला के साथ हुआ था। 28 अगस्त 2014 को बेटी पूर्वी का जन्म हुआ था। विवाह के बाद से ही विनोद बैतूल में ही रहता था। मृतक के भाई सुरेश बारस्कर ने बताया कि विनोद का किसी से कोई विवाद नहीं था और ना ही परिवार में कोई परेशानी थी। सुरेश ने बताया कि सोमवार शाम लगभग 7 बजे उसने विनोद से मोबाईल पर बात की थी जब भी उसने किसी प्रकार की कोई परेशानी होने की बात नहीं बताई थी। इसके बाद 12 घंटे में ऐसा क्या हुआ कि विनोद परिवार के साथ घर छोडक़र निकल गया और शाम को शव मिल गए।

सभी पहलुओं पर जांच कर रही है पुलिस

मामले की जांच कर रहे सांईखेड़ा थाना के एसआई ओपी शर्मा ने बताया कि उन्हें कुएं में तीन शव होने की सूचना मिली। घटनास्थल पहुंचकर शव निकाले। तीनों शव पानी में तैर रहे थे। शव निकालकर पीएम के लिए जिला अस्पताल लाया है। मृतक के पास किसी प्रकार का सुसाइड नोट नहीं मिला। मृतक के घर में मकान मालिक को एक सोसाइड नोट मिला है जिसे कोतवाली पुलिस को दिया गया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। सभी पहलुओं की जांच की जा रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper