कर्नाटक में मोदी हवा, सत्ता से दूर होती दिख रही कांग्रेस

बेंगलुरु: कर्नाटक विधानसभा चुनाव में फिर एक बार अन्यं राज्योंन की तरह मोदी मैजिक चला है। यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का करिश्मावई जादू और उनके समर्थन की हवा कहिए कि राज्यर की जनता ने कांग्रेस और जेडीएस द्वारा जोर-शोर से प्रचारित किए गए नोटबंदी और जीएसटी जैसे मुद्दों को नकारते हुए भाजपा को अपना व्याजपक जनसमर्थन दिया है। ताजा रुझानों में यहां बीजेपी बहुमत हासिल करने के नजदीक पहुंचती दिख रही है। भाजपा अभी यहां 117 सीटों पर आगे चल रही है. वहीं कांग्रेस को 63, जेडीएस को 40 पर बढ़त हासिल किए हुए है।

वैसे देखा जाए तो सबसे अधिक चौकाने वाले रुझान जनता दल सेकुलर के आ रहे हैं। यहां किसी ने उम्मीाद नहीं की थी कि वह 25 से 30 सीटों पर अपने बढ़त के रुझान बरकरार रख पाएगी लेकिन वह सुबह 10 : 55 तक 40 सीटों पर अपनी बढ़त बनाए हुए है। जिसे देखेते हुए कहा जा सकता है कि कर्नाटक चुनाव के ये नतीजे त्रिशंकु विधानसभा बनाने की ओर आगे बढ़ रहे हैं।

उधर, पहले फिर एक बार सत्तास में आने का दावा कर रही कांग्रेस ने अब खुद को पिछड़ता देख गठबंधन की राजनीति की बात कहना शुरू कर दिया है। कांग्रेस महासचिव अशोक गहलोत अभी दोनों ही बाते करते दिख रहे हैं, एक तरफ वे अपनी पार्टी की जीत का दावा कर रहे हैं तो दूसरी ओर साथ में यह भी कह रहे हैं कि कांग्रेस पार्टी ने सारे विकल्प खुले रखे हैं। वह गठबंधन की बात करते भी दिखे हैं। वहीं एचडी देवगौड़ा की जनता दल सेकुलर यहां किंगमेकर की भूमिका में उभरकर सामने आई है। जिसे देखते हुए दिल्ली में भाजपा ने भी यहां सरकार बनाने के लिए अपनी तैयारियां शुरू करते हुए राष्ट्री य अध्यीक्ष अमित शाह के नेतृत्वस में बैठक शुरू कर दी है।

दूसरी ओर कर्नाटक में प्रदेश भारतीय जनता पार्टी कार्यालय में कर्नाटक की जीत को देखते हुए यहां जश्न का माहौल है । उल्लेदखनीय है कि यदि कर्नाटक में बीजेपी सरकार बनाने में कामयाब हो जाती है तो यह देश को 22वां राज्य होगा, जहां भारतीय जनता पार्टी सत्ता में आएगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper