कल वीरता पुरस्कार से सम्मानित किए जाएंगे 60 पुलिसकर्मी

लखनऊ। पुलिस सप्ताह के अवसर पर 5 अप्रैल को वार्षिक रैतिक परेड में राज्यपाल राम नाईक द्वारा वीरता एवं अदम्य साहस का परिचय देने वाले लगभग 60 पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों को पुलिस पदक से अलंकृत किया जायेगा।

पुलिस प्रवक्ता ने बुधवार को बताया कि 9 मार्च 2001 को जनपद मीरजापुर के थाना मडि़हान क्षेत्र में पुलिस और अपराधियों के मध्य मुठभेड़ हुई। इस मुठभेड़ में इन अधिकारियों द्वारा अपनी जान की परवाह न करते हुये 16 नक्सलियों को मार गिराने में सफलता प्राप्त की गयी थी। इनके पास से भारी मात्रा में आग्नेयास्त्र भी बरामद हुआ था।

इस मुठभेड़ में इन अधिकारियों द्वारा अदम्य साहस एवं शौर्य का प्रदर्शन करते हुए अनुकरणीय सफलता प्राप्त की गई। इसके लिये अविनाश चन्द्र, अपर पुलिस महानिदेशक कानपुर जोन को वीरता के लिये पुलिस पदक का प्रथम बार व अभय कुमार प्रसाद, अपर पुलिस महानिदेशक ईओडब्ल्यू ,
देवेन्द्र कुमार चौधरी, सेवानिवृत्त पुलिस उप महानिरीक्षक, दिलीप सिंह, निरीक्षक नागरिक पुलिस अलीगढ़ और स्वर्गीय पन्ना लाल, निरीक्षक नागरिक पुलिस कानपुर नगर (पत्नी श्रीमती प्रभावती) को वीरता के लिए पुलिस पदक प्रदान किया गया है। पन्ना लाल के दु:खद निधन के कारण इनका अलंकरण इनकी पत्नी प्रभावती पुरस्कार ग्रहण करेंगी।

प्रवक्ता ने बताया कि 08 नवम्बर 2008 को जनपद बरेली के थाना इज्जतनगर क्षेत्र में पुलिस और अपराधियों के मध्य हुई मुठभेड़ में एक ईनामी अपराधी को मार गिराने में सफलता प्राप्त की गयी थी। इसके पास से भारी मात्रा में आग्नेयास्त्र भी बरामद हुआ था ।

इस मुठभेड़ में बिनोद कुमार सिंह, पुलिस महानिरीक्षक मुरादाबाद परिक्षेत्र, प्रबल प्रताप सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक सहारनपुर, अरूण कुमार सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक गौतमबुद्धनगर, किरन पाल सिंह, निरीक्षक नागरिक पुलिस अधिकारियों द्वारा अदम्य साहस एवं शौर्य का प्रदर्शन करते हुए अनुकरणीय सफलता प्राप्त की गई। इसके लिये इन्हें वीरता के लिए पुलिस पदक प्रदान किया गया है।

प्रवक्ता ने बताया कि 26 अप्रैल 2010 को जनपद गौतमबुद्धनगर के थाना सूरजपुर क्षेत्र में एसटीएफ और अपराधियों के मध्य हुई मुठभेड़ में 02 ईनामी अपराधियों को मार गिराने में सफलता प्राप्त की गयी थी। इनके पास से भारी मात्रा में आग्नेयास्त्र भी बरामद हुआ था। इस मुठभेड़ में नवीन अरोरा, महानिरीक्षक, आईटीबीपी नई दिल्ली और शैलेश प्रताप सिंह, निरीक्षक, एसटीएफ द्वारा अदम्य साहस एवं शौर्य का प्रदर्शन करते हुए अनुकरणीय सफलता प्राप्त की गई। इसके लिये श्री नवीन अरोरा को वीरता के लिये पुलिस पदक का प्रथम बार व शैलेश प्रताप सिंह को वीरता के लिए पुलिस पदक प्रदान किया जाता है।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि 25 जून 2005 को जनपद मुरादाबाद के थाना मुगलपुरा क्षेत्र में पुलिस और अपराधियों के मध्य हुई मुठभेड़ में 02 ईनामी अपराधियों को मार गिराने में सफलता प्राप्त की गयी थी। इनके पास से भारी मात्रा में आग्नेयास्त्र भी बरामद हुआ था। इस मुठभेड़ में डा.जी.के. गोस्वामी, संयुक्त निदेशक सीबीआई लखनऊ जोन, प्रवीन कुमार सिंह, पुलिस उपाधीक्षक कानपुर नगर, प्रीतम पाल सिंह, पुलिस उपाधीक्षक बरेली द्वारा अदम्य साहस एवं शौर्य का प्रदर्शन करते हुए अनुकरणीय सफलता प्राप्त की गई। इसके लिये डा.जी.के. गोस्वामी को वीरता के लिये पुलिस पदक का द्वितीय बार तथा प्रवीन कुमार सिंह व प्रीतम पाल सिंह को वीरता के लिए पुलिस पदक प्रदान किया जाता है।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि 20 मई 2006 को जनपद लखनऊ के थाना मडिय़ांव क्षेत्र में पुलिस और अपराधियों के मध्य हुई मुठभेड़ में 02 ईनामी अपराधियों को मार गिराने में सफलता प्राप्त की गयी थी। इनके पास से भारी मात्रा में आग्नेयास्त्र भी बरामद हुआ था। इस मुठभेड़ में सुवेन्द्र कुमार भगत, पुलिस महानिरीक्षक अपराध, विजय भूषण, पुलिस उप महानिरीक्षक आजमगढ़ परिक्षेत्र, सत्येन्द्र सिंह, आरक्षी छठवीं वाहिनी पीएसी मेरठ द्वारा अदम्य साहस एवं शौर्य का प्रदर्शन करते हुए अनुकरणीय र्सलता प्राप्त की गई। इसके लिये सुवेन्द्र कुमार भगत, सत्येन्द्र सिंह को वीरता के लिये पुलिस पदक तथा विजय भूषण को वीरता के लिये पुलिस पदक का तृतीय बार प्रदान किया जाता है।

प्रवक्ता ने बताया कि 12 दिसम्बर 1998 को कोलकाता पश्चिम बंगाल में एसटीएफ और अपराधियों के मध्य हुई मुठभेड़ में 02 ईनामी अपराधी गिरफ्तार किये गये तथा 04 अपराधियों को मार गिराने में सफलता प्राप्त की गयी थी। इनके पास से भारी मात्रा में आग्नेयास्त्र भी बरामद हुआ था।
इस मुठभेड़ में राजेश कुमार पाण्डेय, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अलीगढ़ ,उमेश कुमार सिंह, पुलिस अधीक्षक बिजनौर द्वारा अदम्य साहस एवं शौर्य का प्रदर्शन करते हुए अनुकरणीय सफलता प्राप्त की गई। इसके लिये राजेश कुमार पाण्डेय को वीरता के लिये पुलिस पदक का तृतीय बार तथा उमेश कुमार सिंह को वीरता के लिये पुलिस पदक प्रदान किया जाता है।

राम नयन सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक सुरक्षा उत्तर प्रदेश 28 दिसम्बर 2006 को जनपद लखनऊ के थाना ठाकुरगंज क्षेत्र में पुलिस और अपराधियों के मध्य हुई मुठभेड़ में 01 ईनामी अपराधी को मार गिराने में व एक अपहृत बच्चे को सकुशल मुक्त कराने में सफलता प्राप्त की गयी। इसके पास से भारी मात्रा में आग्नेयास्त्र भी बरामद हुआ था। इस मुठभेड़ में राम नयन सिंह द्वारा अदम्य साहस एवं शौर्य का प्रदर्शन करते हुए अनुकरणीय सफलता प्राप्त की गई। इसके लिये इन्हें वीरता के लिये पुलिस पदक प्रदान किया जाता है।

प्रवक्ता ने बताया कि 20 जनवरी 2010 को जनपद लखनऊ के थाना अलीगंज क्षेत्र में पुलिस और अपराधियों के मध्य हुई मुठभेड़ में 04 अपराधियों को मार गिराने में व एक अपहृत बच्चे को सकुशल मुक्त कराने में सफलता प्राप्त की गयी। इनके पास से भारी मात्रा में आग्नेयास्त्र भी बरामद हुआ था।
इस मुठभेड़ में मनीष कुमार मिश्रा द्वारा अदम्य साहस एवं शौर्य का प्रदर्शन करते हुए अनुकरणीय सफलता प्राप्त की गई। इसके लिये इन्हें वीरता के लिये पुलिस पदक प्रदान किया जाता है।

प्रवक्ता ने बताया कि 22 अक्टूबर 2011 को जनपद गाजियाबाद के थाना कविनगर क्षेत्र में पुलिस और अपराधियों के मध्य हुई मुठभेड़ में 06 अपराधियों को गिरफ्तार करने में व एक अपहृत बच्चे को सकुशल मुक्त कराने में सफलता प्राप्त की गयी थी। इनके पास से भारी मात्रा में आग्नेयास्त्र भी बरामद हुआ था।

इस मुठभेड़ में प्रेमवीर सिंह राणा, निरीक्षक नागरिक पुलिस बिजनौर , संजय कुमार पाण्डेय, निरीक्षक नागरिक पुलिस सहारनपुर, मनीष बिष्ट, निरीक्षक नागरिक पुलिस मुजफ्फ रनगर, जर्रार हुसैन, उप निरीक्षक नागरिक पुलिस सहारनपुर, प्रवेश कुमार, उप निरीक्षक नागरिक पुलिस मुजफ्फ रनगर, प्रभात कुमार और आरक्षी नागरिक पुलिस सहारनपुरा अदम्य साहस एवं शौर्य का प्रदर्शन करते हुए अधिकारियों को वीरता के लिये पुलिस पदक प्रदान किया जाता है।

प्रवक्ता ने बताया कि 5 जून 2015 को जनपद सहारनपुर के थाना मनिहारन क्षेत्र में पुलिस और अपराधियों के मध्य हुई मुठभेड़ में 02 ईनामी अपराधियों को मार गिराने में सफलता प्राप्त की गयी थी। इनके पास से भारी मात्रा में आग्नेयास्त्र भी बरामद हुआ था। इस मुठभेड़ में गिरजा शंकर त्रिपाठी, निरीक्षक नागरिक पुलिस बाराबंकी, विजय प्रताप सिंह, उप निरीक्षक नागरिक पुलिस मीरजापुर द्वारा अदम्य साहस एवं शौर्य का प्रदर्शन करते हुए अनुकरणीय सफलता प्राप्त की गई। इसके लिये इन अधिकारियों को वीरता के लिये पुलिस पदक प्रदान किया जाता है।

प्रवक्ता ने बताया कि 11 फरवरी 2009 को जनपद वाराणसी के थाना रोहनियां क्षेत्र में पुलिस और अपराधियों के मध्य हुई मुठभेड़ में एक ईनामी अपराधी को मार गिराने में सफलता प्राप्त की गयी थी। इसके पास से भारी मात्रा में आग्नेयास्त्र भी बरामद हुआ था। इस मुठभेड़ में गिरीश प्रसाद शर्मा, पुलिस महानिदेशक भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड, बिश्वजीत महापात्र, पुलिस महानिदेशक भ्रष्टाचार निवारण संगठन, आनन्द कुमार, अपर पुलिस महानिदेशक कानून-व्यवस्था, डा. संजय एम. तरडे, अपर पुलिस महानिदेशक प्रशिक्षण, आलोक शर्मा, महानिरीक्षक एसपीजी नई दिल्ली, बीपी जोगदण्ड, अपर पुलिस महानिदेशक पुलिस मुख्यालय इलाहाबाद, ब्रजभूषण, अपर पुलिस महानिदेशक सतर्कता अधिष्ठान,प्रेम चन्द मीना, अपर पुलिस महानिदेशक पुलिस आवास निगम, दुर्गा चरण मिश्र, सेवानिवृत्त पुलिस महानिरीक्षक, आरकेएस राठौर, सेवानिवृत्त पुलिस महानिरीक्षक, विजय यादव, सेवानिवृत्त पुलिस उप महानिरीक्षक, ओम प्रकाश सिंह, सेवानिवृत्त अपर पुलिस अधीक्षक, सर्वजीत शाही, सेवानिवृत्त पुलिस उपाधीक्षक, संजय चौधरी, पुलिस उपाधीक्षक वाराणसी, सत्य प्रकाश सिंह यादव, सेवानिवृत्त पुलिस उपाधीक्षक, गोरखनाथ यादव, सहायक सेनानायक 49वीं वाहिनी पीएसी, संगम लाल मिश्रा, निरीक्षक खाद्य प्रकोष्ठ लखनऊ, श्रीराम, सेवानिवृत्त रेडियो उप निरीक्षक, राज नारायण, सेवानिवृत्त मुख्य आरक्षी, अवनीश गौतम, निरीक्षक नागरिक पुलिस शामली और अक्षय कुमार शर्मा, उप निरीक्षक, नागरिक पुलिस मुजफ्फ रनगर द्वारा अदम्य साहस एवं शौर्य का प्रदर्शन करते हुए अनुकरणीय सफलता प्राप्त की गई। इसके लिये इन अधिकारियों को विशिष्ट सेवाओं के राष्ट्रपति का पुलिस पदक प्रथम बार प्रदान किया जाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper