कांग्रेस की तरह बीजेपी सरकार में भी महिलाएं-दलित कतई सुरक्षित नहीं: मायावती

लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश की कानून व्‍यवस्‍था को लेकर बहुजन समाज पार्टी (बसपा) मुखि‍या मायावती ने सवाल उठाए हैं। मायावती ने कहा कि यूपी में अपराध न‍ियंत्रण का काफी बुरा हाल है, लेकिन खासकर दलित और महिला उत्‍पीड़न की आए द‍िन होने वाली घटनाओं से हर तरफ चिंता की लहर है। बसपा सुप्रीमो ने हाथरस की घटना और गुजरात में दल‍ित आरटीआई कार्यकर्ता की हत्‍या को लेकर भी भाजपा सरकार पर न‍िशाना साधा है। साथ ही सरकार से इस ओर तुंरत ध्‍यान देने की बात कही है।

‘कांग्रेस की तरह BJP सरकार में भी महिलाएं-दलित सुरक्षित नहीं’ मायावती ने बुधवार को ट्वीट किया, ‘यूपी सरकार में वैसे तो हर प्रकार के अपराध चरम पर होने से अपराध नियंत्रण का काफी बुरा हाल है, किन्तु खासकर दलित व महिला उत्पीड़न/असुरक्षा की आएदिन होने वाली दर्दनाक व शर्मनाक घटनाओं से हर तरफ चिन्ता की लहर है। ऐसे संगीन मामलों में भी सरकार की असंवेदनशील व लापरवाही अति-दुःखद।’ मायावती ने अपने दूसरे ट्वीट में कहा, ‘यूपी के हाथरस में महिला उत्पीड़न व पिता की हत्या तथा गुजरात में दलित आरटीआई कार्यकर्ता की निर्मम हत्या यह साबित करती है कि कांग्रेस पार्टी की तरह बीजेपी सरकार में भी दलितों, शोषितों व महिलाओं आदि की जान-माल व आत्म-सम्मान कतई भी सुरक्षित नहीं है। सरकार इस ओर तुरन्त ध्यान दें।’ बता दें, उत्‍तर प्रदेश में आपराधि‍क घटनाओं खासकर महिलाओं के खि‍लाफ अपराध कम होने का नाम नहीं ले रहे हैं।

बीते दिनों हाथरस में शोहदों ने बेटी से छेड़खानी का मुकदमा वापस न लेने पर उसके क‍िसान प‍िता की गोली मारकर हत्‍या कर दी। इसके बाद बुलंदशहर की घटना ने लोगों को ह‍िलाकर रख द‍िया। यहां एक युवक ने 13 साल की क‍िशोरी से रेप की कोशि‍श की, असफल होने पर उसकी बेरहमी से हत्‍या कर दी। इसके बाद शव को घर में दफनाकर फरार हो गया। पुलिस ने बुधवार को आरोपी युवक को हिमाचल प्रदेश से ग‍िरफ्तार किया गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper