कानपुर मेट्रो के लिए आज का दिन बेहद ख़ास, गुजरात के सावली में शुरू हुआ मेट्रो ट्रेनों का निर्माण

लखनऊ: कानपुर मेट्रो परियोजना के लिए आज का दिन बेहद ख़ास है क्योंकि आज यूपी मेट्रो के प्रबंध निदेशक कुमार केशव की उपस्थिति में गुजरात में कानपुर मेट्रो के लिए रोलिंग स्टॉक्स (मेट्रो ट्रेनों) के निर्माण का शुभारंभ हुआ है। यूपी मेट्रो के एमडी ने विधिवत पूजा-अर्चना के बाद मेट्रो ट्रेनों की मैनुफ़ैक्चरिंग का शुभारंभ किया और इस अवसर पर यूपी मेट्रो की ओर से अतुल कुमार गर्ग, निदेशक (रोलिंग स्टॉक ऐंड सिस्टम) एवं सुशील कुमार, निदेशक (परिचालन) भी मौजूद रहे। बता दें कि, कानपुर मेट्रो के लिए रोलिंग स्टॉक और सिग्नलिंग सिस्टम उपलब्ध कराने का कॉन्ट्रैक्ट बॉम्बार्डियर इंडिया को दिया गया है और मेट्रो ट्रेनों का निर्माण गुजरात के वड़ोदरा के नज़दीक सावली स्थित प्लान्ट में हो रहा है।

कानपुर के लिए आएंगी कुल 39 मेट्रो ट्रेनें!
कानपुर मेट्रो के अंतर्गत प्रस्तावित दोनों कॉरिडोर्स (आईआईटी से नौबस्ता और कृषि विश्वविद्यालय से बर्रा-8) के लिए 3 मेट्रो कोच की कुल 39 मेट्रो ट्रेनों की सप्लाई होनी है। इस हिसाब से बॉम्बार्डियर के सावली प्लान्ट में कानपुर मेट्रो रेल परियोजना के लिए कुल 117 मेट्रो कोचों का निर्माण किया जाना है, जिसकी शुरुआत आज से हो गई है। निर्धारित समय-सीमा के मुताबिक़, कानपुर मेट्रो के लिए पहला मेट्रो ट्रेन सेट सितंबर माह तक 64 हफ़्तों के रेकॉर्ड समय में आना है। इन ट्रेनों की मैनुफ़ैक्चरिंग बॉम्बार्डियर के जर्मनी और हैदराबाद ऑफ़िस के डिज़ाइन विशेषज्ञों के परामर्श के साथ हो रही है। साथ ही, मेट्रो ट्रेनों के डिज़ाइन से संबंधित दस्तावेज़ आरडीएसओ को अनुमोदन हेतु भेज दिए गए हैं।

ऊर्जा संरक्षण और यात्री सुरक्षा के लिए अत्याधुनिक सुविधाओं से होंगी लैस!
गौरतलब है कि कोविड-19 की वैश्विक महामारी के इस चुनौतीपूर्ण समय में भी, यूपी मेट्रो ने लगातार बॉम्बार्डियर जर्मनी और बॉम्बार्डियर इंडिया की टीमों के साथ लगातार ऑनलाइन बैठकें जारी रखीं और समय पर मेट्रो ट्रेनों के डिज़ाइन तैयार किए। मेट्रो ट्रेनों के डिज़ाइन गहन विश्लेषण के बाद तैयार किए गए हैं ताकी इन्हें पूरी तरह से सुरक्षित, सुविधाजनक और पर्यावरण के अनुकूल बनाया जा सके।

कानपुर की मेट्रो ट्रेनें ऑटोमैटिक ट्रेन ऑपरेशन को ध्यान में रखते हुए सीबीटीसी प्रणाली यानी संचार आधारित ट्रेन नियंत्रण प्रणाली से लैस होंगी। ये अत्याधुनिक मेट्रो ट्रेनें ऊर्जा संरक्षण, सुरक्षित परिचालन और यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए डिज़ाइन की गई हैं। इतना ही नहीं, इन ट्रेनों में कार्बन-डाई-ऑक्साइड सेंसर आधारित एयर-कंडीशनिंग सिस्टम भी मौजूद होगा, जिससे मेट्रो परिचालन के दौरान ऊर्जा की बचत होगी।

इस अवसर पर ख़ुशी ज़ाहिर करते हुए यूपी मेट्रो के प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने कहा, “कानपुर और आगरा मेट्रो परियोजनाओं के लिए मेट्रो ट्रेनों का निर्माण बॉम्बार्डियर के गुजरात स्थित प्लान्ट में होना है और इसके माध्यम से यूपी मेट्रो ने भारत सरकार द्वारा शुरू किए गए मेक इन इंडिया और आत्मनिर्भर भारत के अभियानों में अपनी सशक्त प्रतिभागिता दर्ज करा दी है। मुझे यह सूचित करते हुए बहुत हर्ष महसूस हो रहा है कि हमने सफलतापूर्वक निर्धारित समय-सीमा के अंतर्गत मेट्रो ट्रेनों के निर्माण की प्रक्रिया शुरू कर दी है ताकी कानपुर शहर में नियत समय के अंदर मेट्रो सेवाओं का परिचालन शुरू किया जा सके। इस मौक़े पर मैं यूपी मेट्रो और बॉम्बार्डियर की पूरी टीम को बहुत-बहुत बधाई देता हूं।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper