कानपुर संवासिनी गृह में 57 लड़कियों को कोरोना, 7 गर्भवती निकलने पर प्रियंका ने उठाए सवाल

कानपुर में राजकीय संवासिनी गृह में दो कर्मचारियों समेत 57 संवासिनियों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव निकलने से हड़कंप मच गया है. वहीं 7 बालिकाएं गर्भवती भी निकली हैं. इस मामले में अब प्रियंका गांधी ने बिहार के मुजफ्फरपुर के बालिका गृह का जिक्र करते हुए योगी सरकार पर निशाना साधा है. हाल में कानपुर के इस संवासिनी गृह में रहने वाली 33 महिलाओं की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. अब ये संख्या और बढ़ने से प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए हैं.

कोरोना संक्रमण के 57 मामले सामने आने के बाद जिले में हड़कंप मच गया है. एक सप्ताह पहले ही संवासिनी गृह की एक महिला कोरोना पॉजिटिव पाई गई थी. उसके बाद 18 जून को एक साथ 33 महिलाओं की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी.

19 जून को 16 और संवासिनियों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई. 20 जून की रात जांच रिपोर्ट में 8 और कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए. संवासिनी गृह में 12 वर्ष से लेकर 34 साल तक की महिलाएं रहती हैं.

कोरोना संक्रमित 2 गर्भवती संवासिनियों को भी कोरोना संक्रमित होने के बाद डफरिन हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है. संवासिनियों की उम्र महज 17 साल है.

कानपुर जिला प्रशासन की ओर से एक बयान भी सामने आया है. प्रशासन का कहना है कि जो 7 बालिकाएं गर्भवती पाई गई हैं, उनमें से 5 कोरोना पॉजिटिव हैं. बाकी की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई है. सातों बालिकाएं संवासिनी गृह में प्रवेश होने के समय से ही गर्भवती थीं.

संक्रमण कैसे संवासिनी गृह में फैला, इसकी जानकारी सामने नहीं आ सकी है. संपर्क में आए लोगों की ट्रेसिंग की जा रही है. जिन लोगों की ट्रेसिंग हो गई है, उन्हें क्वारनटीन कर दिया गया है.

कानपुर के डीएम ने क्या कहा

इस पूरे मामले पर कानपुर के डीएम ने कहा कि कानपुर संवासिनी गृह में कोरोना पॉज़िटिव मामलों में से दो गर्भवती लड़कियों की खबर के बारे में यह स्पष्ट करना है कि ये पॉक्सो एक्ट के तहत CWC आगरा तथा कन्नौज के आदेश से दिसम्बर 2019 में यहॉं संवासित की गयी थीं और तत्समय किए गए मेडिकल परीक्षण के अनुसार ये पहले से गर्भवती थीं.

डीएम ने ट्वीट किया कि कुछ लोगों द्वारा कानपुर संवासिनी गृह को लेकर ग़लत उद्देश्य से पूर्णतया असत्य सूचना फैलाई गई है. पदाकाल में ऐसा कृत्य संवेदनहीनता का उदाहरण है. कृपया किसी भी भ्रामक सूचना को जांचे बिना पोस्ट ना करें. ज़िला प्रशासन इस संबंध में आव़श्यक कार्रवाई हेतु लगातार तथ्य एकत्र कर रहा है.

बाल संरक्षण गृहों में अमानवीय घटनाएं: प्रियंका गांधी

वहीं इस मामले में कांग्रेस नेता प्रिंयका गांधी ने यूपी सरकार को घेरा है. उन्होंने एक ट्वीट में कहा, ‘कानपुर के सरकारी बाल संरक्षण गृह में 57 बच्चियों को कोरोना की जांच होने के बाद एक हैरानी करने वाला तथ्य सामने आया. 2 बच्चियां गर्भवती निकलीं और एक को एड्स पॉजिटिव निकला. मुजफ्फरपुर (बिहार) के बालिका गृह का पूरा किस्सा देश के सामने है. यूपी में भी देवरिया से ऐसा मामला सामने आ चुका है. ऐसे में पुनः इस तरह की घटना सामने आना दिखाता है कि जांचों के नाम पर सब कुछ दबा दिया जाता है लेकिन सरकारी बाल संरक्षण गृहों में बहुत ही अमानवीय घटनाएं घट रही है।

यूपी में कानपुर दूसरा सबसे प्रभावित जिला

कानपुर उत्तर प्रदेश का दूसरा सबसे ज्यादा कोरोना प्रभावित जिला है. कानपुर में कोरोना वायरस के एक्टिव मामलों की संख्या 386 है. पहले नंबर पर नोएडा बना हुआ है. नोएडा में कोरोना के एक्टिव मामलों की संख्या 690 है. गाजियाबाद में कोरोना के 354 केस है, वहीं 329 लोग लखनऊ में कोरोना संक्रमित हैं. मेरठ में भी 242 लोग कोरोना संक्रमित हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper