कितना भी पुराना हो गंजापन, इस तरीके से आ जाएंगे नए बाल…!

लखनऊ: दोस्तों कैसे आप लोग, गंजापन इस समय बहुत ही बड़ी परेशानी आज के लोगों के बीच है 5 में से 2 लोग आज गंजेपन का शिकार है और आजकल युवाओं में भी गंजेपन की बीमारी बहुत जोरों से हो रही है जिसके कारण लोग अपना आत्मविश्वास खो देते हैं और अपने आपको हीन भावना से देखते हैं पर आज हम आपको आयुर्वेद में बताई गई एक ऐसे नुस्खे के बारे में बताने वाले हैं जो कितना भी पुराना गंजापन हो उसे 100% ठीक कर देता है और नए बाल उगाता है तो पूरी जानकारी ध्यान से जरूर पढ़ें…

इस जादुई नुस्खे को बनाने के लिए आपको शुद्ध सरसों का तेल लेना है और उसमें ततैया का छत्ता डालकर उसे अच्छी तरह गर्म करना है आपको बता दें कि ततैया के छत्ते में कुछ ऐसे तत्व होते हैं जो आपके गंजेपन को दूर करने में बहुत ही प्रभावी होते हैं और आप के नए बाल उग आते हैं ततैया के छत्ता आपको आसपास कहीं पर भी मिल जाएगा यदि आप ध्यान से ढूंढें । दोस्तों जब तेल अच्छी तरह से गर्म हो जाए और ततैया का छत्ता उसमें उबल जाए तो आप उस ततैया के छत्ते को बाहर निकाल दें और उस तेल को ठंडा करके अपने बालों में अच्छी तरह से लगाएं और ऐसा कम से कम 3 महीने तक करें धीरे-धीरे आपका गंजापन दूर होने लग जाएगा और उसमें नए बाल आना शुरू हो जाएंगे और 6 से 9 महीने के बाद आपके सर पर काफी बाला आ चुके होंगे यह हमारी गारंटी है ।

इस काम को भी करें रोज़

इस नुस्खे के साथ आपको रोज सुबह में 5 मिनट अपनी दोनों उंगलियों के नाखूनों को आपस में रगड़ना है और शाम में सोने से पहले भी अपनी उंगलियों के नाखूनों को 5 मिनट आपस में रगड़ना है ऐसा करने से गजब का प्रभाव आपके शरीर पर पड़ेगा और आपके गंजेपन को दूर करने में बहुत ज्यादा सहायता मिलेगी ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper