किन्नरों की बद्दुआ से क्यों डरते हैं लोग, जानिए इससे आपकी जिंदगी पर क्या पड़ता है असर

नई दिल्ली: भारत में किन्नर जाति की छवि कोई खास नहीं है . प्राचीन समय से ही इनके बारे में कहा जाता है की यदि किन्नर किसी व्यक्ति को शाप देते है तो उसका विनाश निश्चित ही होता है . लेकिन यह भी सच है की यदि किन्नर किसी को वरदान देते है तो वह जीवन में बहुत कुछ हासिल कर लेता है . आज हम आपको उन दो शब्दों के बारे में बता रहे है . जिन्हे यदि आप किसी किन्नर के सामने बोलते है तो आपकी किस्मत काफी बदल जायेगी .

हम अक्सर यह देखते है की जब भी किसी व्यक्ति के घर उत्सव होता है तो उनके घर किन्नर चले जाते है . वहां पहुंचकर किन्नर उत्सव के आयोजन कर्ता को उत्सव की बधाई देते है . इसके उपरांत किन्नर को धन और वस्त्र दिए जाते है . जिससे प्रसन्न होकर किन्नर काफी दुआये देते है .

जिस तरह किन्नर की दुआ सभी को लगती है . उसी प्रकार किन्नर की बद्दुआ भी लगती है . ऐसा कहा जाता है की यदि किन्नर किसी व्यक्ति के घर जाए तो उसे निराश नहीं लौटना चाहिए . यदि ऐसा आप करते है तो आपके जीवन की बरबादी निश्चित है . क्योंकि इन्हे देवताओ से वरदान मिला हुआ है की यदि आप किसी व्यक्ति को दुआ या बद्दुआ देंगे तो उसका असर जरूर होगा . यही कारण है की यदि किन्नर किसी के घर चले जाए तो उन्हें काफी सम्मान दिया जाता है .

ऐसा माना जाता है की किन्नर जाति का स्वभाव काफी कोमल होता है . इसलिए यह काफी जल्दी क्रोधित और शांत हो जाते है . यदि एक बार यह क्रोधित हो जाए तो इनके द्वारा दिए गए श्राप को यह खुद भी वापस नहीं ले सकते है . यदि आप इन्हे प्रसन्न रखना चाहते है तो इन्हे दो शब्द के रूप में यह कह दीजिए की “फिर आईयेगा” .

जब आप ऐसा कहते है तो किन्नर खुद को गौरवान्वित महसूस करते है . इस समय इनके दिल से जो भी शब्द निकलते है . उनसे आपका कल्याण ही होता है . यदि आप ऐसा करते है तो आप जल्द ही बहुत बड़े आदमी भी बन सकते है .

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper