किन्नर से मांग ले ये एक चीज़ हमेशा रहेंगे धनवान

हर कोई व्यक्ति चाहता है उसका पर्स हमेशा पैसो से भरा रहे कभी खाली ना हो लेकिन कई बार ऐसे हालात आ जातें हैं कि आपका पर्स खाली हो जाता है या फिर महीने के आखिर में आपको पैसो कि तंग्गी का सामना करना पड़ता है अगर आप चाहते हो आपके साथ ऐसा ना हो तो आप इस बात का जरूर ध्यान रखें इससे आपका पर्स हमेशा पैसो से भरा रहेगा |

एक रूपये का सिक्का
किन्नर से मांग ले एक रूपये का सिक्का, ऐसी मान्यता है कि किन्नर को दिया गया दान अक्सर पुण्य प्रदान करता है इनकी दुआएं व्यक्ति को हर विपत्ति से बचा लेतीं हैं यदि आप पैसो कि समस्या से मुक्ति चाहते हो किसी किन्नर से एक रूपये का सिक्का मांग ले यदि किन्नर अपनी ख़ुशी से आपको सिक्का दे देता है तो उसे हरे कपडे में लपेटकर अपने पर्स में रखें या तिजोरी में रखें ऐसा करने से आपकी धन संबन्धी परेशानिया दूर होने लगेंगी |

पीपल
पीपल में भगवन विष्णु का वास होता है आप अपने पर्स में पीपल का एक पत्ता रखें जिससे आपके पर्स में धन कि बरसात होने लगेगी धर्म ग्रंथो के अनुसार पीपल के पेड़ में भगवान विष्णु का वास माना जाता है|

इसलिए एक पीपल के पत्ते को गंगाजल से धोकर पवित्र कर लें अब इस पर केसर से श्री लिखकर पर्स में इस प्रकार रखें कि ये किसी को नज़र ना आये नियमित अन्तराल पर ये पत्ता बदलते रहें और ऐसा करने से आपको काफी फायदा होगा आप बहुत जल्द धनवान बन जाएंगे तथा आपके पर्स में पैसे कि कभी भी कमी नहीं होगी |

लक्षी पूजा के चावल
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चावल शुक्र गृह से सम्बंधित अन है किसी भी पूजा पाठ के दौरान ये देवी देवताओ को तिलक करने के बाद चावल भी चढ़ाये जातें हैं लक्ष्मी पूजा के दौरान चढ़ाये गए चावल बहुत ख़ास होते हैं और माँ लक्ष्मी को चढ़ाएं गए चावलों में से 21 दाने लेकर एक कागज़ कि पुडिया में रख ले और इस कागज़ कि पुडिया को पर्स में रख लें इससे आपको काफी धन लाभ होगा |

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper