किसानों की आय दोगुना करने के लिए केंद्र सरकार कर रही काम : मंत्री

पटना: केंद्रीय कृषि एवं कल्याण राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने यहां सोमवार को कहा कि वर्ष 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुना करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपने को पूरा करने के लिए कई योजनाओं पर समेकित रूप से काम हो रहा है। पटना में भाजपा प्रदेश कार्यालय में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में चौधरी ने कहा कि बिहार से किसान रेल चलेगी जो सूबे के कृषि उत्पादों को देश के बाजार तक पहुंचाएगी। इसकी कार्ययोजना तैयार की जा रही है।

चौधरी ने कहा कि वर्ष 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुना करने के प्रधानमंत्री के सपने को पूरा करने के लिए कई योजनाओं पर समेकित रूप से पर काम हो रहा है। इसके लिए चार सेक्टर (क्षेत्रों) पर ध्यान केंद्रित किया गया है। उन्होंने कहा कि किसानों का उत्पादन लागत कम हो, उन्हें सहजता से उन्नत बीज उपलब्ध हो सकें, उनके उत्पाद के संरक्षण के लिए कोल्ड स्टोरेज हों और उनके उत्पाद को बेहतर बाजार उपलब्ध हो सके। इन मुद्दों पर फोकस होने से किसानों को निश्चित रूप से काफी फायदा होगा। उन्होंने कहा कि सरकार इस दिशा में लगातािर काम कर रही है।

केंद्रीय मंत्री ने बताया कि गंगा नदी के किनारे पांच किलोमीटर में जैविक जोन बनाने की भी योजना पर काम शुरू है। इस इलाके की जमीन बेहद उपजाऊ है और यहां सहजता से जैविक खेती की जा सकती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper