किसानों की आय बढ़ाने के लिए समय से उपलब्ध करायी जाय सिंचाई सुविधा: स्वतंत्र देव सिंह

लखनऊ: जलशक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि पारदर्शीपूर्ण व्यवस्था के तहत निष्पक्ष पदस्थापना राज्य सरकार की प्राथमिकता में है। जलशक्ति मंत्री ने समस्त पदस्थापित अभियन्ताओं को बधाई देते हुए कहा की आप सभी कड़ी मेहनत, पूर्ण निष्ठा एवं लगन से काम करते हुए कृषकों को समय से सिंचाई की सुविधा उपलब्ध कराएं जिससे किसानों की आय बढ़ाई जा सके।

उत्तर प्रदेश के जलशक्ति मंत्री ने यह बातें आज यहां सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के डा० राम मनोहर लोहिया परिकल्प भवन, लखनऊ के सभागार में लोक सेवा आयोग से नवचयनित सहायक अभियंताओं के पदस्थापन कार्यक्रम के अवसर पर कही। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि सभी अभियंता अपने दायित्वों को पूरी निष्ठा के साथ निर्वहन करते हुए किसानों को खुशहाल बनाएं, यदि किसान खुशहाल होंगे तो देश एवं प्रदेश की तरक्की होगी।

पदस्थापन कार्यक्रम में लोक सेवा आयोग, उत्तर प्रदेश द्वारा चयनित 37 नवनियुक्त सहायक अभियन्ता (यांत्रिक) एवं 41 विभागीय नवप्रोन्नत अवर अभियन्ता (यांत्रिक) की पारदर्शीपूर्ण व्यवस्थान्तर्गत उनके द्वारा ऐच्छिक विकल्प के चयन के आधार पर पदस्थापना किया गया। ऐच्छिक विकल्प के चयन आधारित प्रक्रिया द्वारा पदस्थापना पर सहायक अभियन्ता (यांत्रिक) एवं अवर अभियन्ता (यांत्रिक) द्वारा प्रसन्नता व्यक्त की गयी।

जलशक्ति राज्यमंत्री श्री रामकेश निषाद ने कहा कि मा0 मुख्यमंत्री एवं जलशक्ति मंत्री के कुशल मार्गदर्शन में चयन एवं तैनाती प्रक्रिया पूरी पारदर्शित से किया गया है। उन्होंने चयनित अभियंताओं को बधाई देते हुए कहा कि अपने दायित्वों का पालन पूरी निष्ठा से करें ताकि विभाग का नाम रोशन हो सके। सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के प्रमुख सचिव श्री अनिल कुमार गर्ग ने सभी चयनित अभियंताओं से कहा कि किसानों को विभाग की संचालित योजनाओं का लाभ पहुंचाने का कार्य करें। अपने अनुभवों एवं नई टेक्नोलॉजी तथा अच्छे कार्यों के क्रियाकलापों को सोशल मीडिया पर अवश्य डालें ताकि अधिक से अधिक किसानों को सिंचाई विभाग की योजनाओं का लाभ मिल सके। उन्हांेने सभी चयनित अभियंताओं को बधाई दी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper