किसानों के मुद्दे पर प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर साधा निशाना, कहा- गन्ने की दरों में कोई वृद्धि नहीं हुई

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने आम लोगों से जुड़े मुद्दों के साथ सरकार पर निशाना साधना शुरू कर दिया है, जिसमें महंगाई, किसानों के मुद्दे, गन्ना किसानों का कर्ज और कोविड कुप्रबंधन शामिल हैं। इसी रणनीति के तहत प्रियंका गांधी वाड्रा ने गुरुवार को किसानों के मुद्दे पर राज्य सरकार पर हमला बोलते हुए कहा, “किसानों के लिए बिजली की दरें कई गुना बढ़ गई हैं, डीजल की दरें 100 गुना से अधिक बढ़ गई हैं लेकिन गन्ने की दरों में कोई वृद्धि नहीं हुई है।”

प्रियंका ने गन्ना कर्ज और दरों को लेकर राज्य सरकार को घेरने की कोशिश की है। उन्होंने कहा, “यूपी बीजेपी सरकार गन्ने के दाम बढ़ाने के वादे पर सत्ता में आई थी, लेकिन पिछले तीन साल में उन्होंने एक पैसा भी नहीं बढ़ाया और अगर कोई आवाज उठाता है तो किसानों को धमकियां दी जाती हैं।” वहीं, कांग्रेस एमएलसी दीपक सिंह ने कहा, “राज्य में सरकार ने पिछले चार वर्षों में कुछ नहीं किया है और कांग्रेस राज्य में लोगों के हित के लिए लड़ रही है और लोगों से संबंधित मुद्दों को उठाएगी।”

पार्टी जहां जमीनी स्तर पर ध्यान केंद्रित कर रही है। वहीं कांग्रेस ने मंगलवार से ‘प्रशिक्षण से पराक्रम’ कार्यक्रम के तहत अपने पदाधिकारियों को प्रशिक्षित करने के लिए 100 दिनों का अभियान शुरू किया है। पार्टी 700 प्रशिक्षण शिविर आयोजित करेगी, जिसमें जमीनी स्तर के करीब दो लाख पदाधिकारियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। पार्टी का संगठन निर्माण कार्यक्रम अंतिम चरण में है। प्रदेश के सभी 823 प्रखंडों और 8,134 न्याय पंचायतों में पार्टी की प्रखंड समितियों का गठन किया गया है। ग्राम सभा के चयन की प्रक्रिया जारी है।

पार्टी नेताओं ने कहा कि ‘प्रशिक्षण से पराक्रम’ कार्यक्रम जिला और शहर समिति के सदस्यों और कई संगठनों की भागीदारी सुनिश्चित करेगा। पार्टी के एक पदाधिकारी ने कहा, “जिला प्रशिक्षण शिविरों के बाद, कार्यक्रम हर विधानसभा क्षेत्र में आयोजित किया जाएगा और केवल अधिकृत व्यक्ति ही शिविरों में शामिल होंगे।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper