किसानों के समर्थन में सिंधु बॉर्डर पर पहुंचे इस भारतीय बल्लेबाज के परिवार के कुछ सदस्य

भारत के युवा सलामी बल्लेबाज शुभमन गिल के परिवार के सदस्य किसानों के समर्थन में है. क्रिकेटर के परिवार के कुछ सदस्य सिंधु बॉर्डर पर भी पहुंचे हैं. बता दें कि शुभमन गिल ने ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध तीसरे वनडे मैच में भारतीय टीम के लिए ओपनिंग की थी और 33 रन बनाए थे. शुभमन गिल के दादा दीदार सिंह गिल कल उनकी बल्लेबाजी देखने के साथ ही किसान आंदोलन की खबरों पर भी नजर रखे हुए थे.

बता दें कि शुभमन गिल का परिवार जलालाबाद के निकट चक खेरे वाला गांव में खेती करता है. शुभमन के पिता लखविंदर सिंह ने बताया कि उनके पिता भी नए कृषि कानून के खिलाफ आंदोलन में भाग लेना चाहते थे. लेकिन हमने उन्हें नहीं जाने दिया. उन्होंने यह भी कहा कि शुभ्मन गिल भी जानते हैं कि यह आंदोलन कितना महत्वपूर्ण है.

शुभमन ने भी काफी समय गांव में गुजारा है. उन्होंने अपने पिता, दादा, चाचा को खेतों में काम करते हुए देखा है. उसे भी खेती का अनुभव है और वह अच्छे से जानता है कि यह आंदोलन किसानों के लिए बहुत जरूरी है. बता दें कि शुभमन गिल 9 साल तक अपने गांव में रहे. इसके बाद वह मोहाली में शिफ्ट हो गए. खेतों में उन्होंने क्रिकेट भी खेली है. अगर वह क्रिकेटर नहीं होते तो किसान बनते. यह बात उनके पिता ने कही. शुभमन गिल ने खुद भी यह कहा था कि वह क्रिकेट के बाद खेती-किसानी करेंगे.

Source link

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper