किसानों को दहशत में डाल अवैध खनन कर रहे हैं बालू माफिया

मुजफ्फरपुर: नये बालू कानून के आने पर बालू की किल्लत और कीमत में भारी उछाल के बाद बालू माफिया का आतंक और भी बढ़ गया है| अब किसानों को दहशत में डालकर अवैध खनन कर रहे हैं। खनन विभाग की मिलीभगत से चल रहे इस कारोबार से न सिर्फ खनिज का अवैध दोहन हो रहा है बल्कि किसानों की फसल भी बर्बाद हो रही है। दियारा इलाकों में बालू के अवैध कारोबार पर नकेल कस जाने के बाद बालू माफिया अब खेती की जमीनों को अपना निशाना बना रहे हैं।

वैशाली के सीमावर्ती मुजफ्फरपुर के गावों में बालू माफिया अवैध खनन कर रहे हैं। जिले के करजा थाना इलाके में नासमझ किसानों को लालच देकर बालू माफिया ने खेती वाली कई एकड़ जमीन को बालू का खान बना दिया है। लहलहाते गेहूं की फसल के बीच बालू का टीला और बीस फीट से ज्यादा गहरी खाई लबें समय से खनन का नतीजा है। इस खनन से उन किसानों की फसल और खेत तवाह हो रहे हैं जो खेती करना चाहते हैं। बालू माफिया आवाज उठाने वाले किसानों को जान मार देने की धमकी दे रहे हैं। जब किसानों के साथ जब “हिन्दुस्थान समाचार” की टीम करजा के इस चवर में पहुंची को बालू माफिया में खलबली मच गयी |

उनका ड्राइवर ट्रैक्टर लेकर तेजी से भाग चला और बालू काट रहे मजदूर भी मौके से निकल गये। इस काले कारोबार में जिले के खनन अधिकारियों की मिलीभगत है, क्योंकि बकौल जिलाधिकारी धर्मेन्द्र सिंह जिले मे बालू खनन का कोई कारोबार नहीं हो रहा है, फिर भी बालू का खनन हो रहा है। जिलाधिकारी ने कारोबारियों पर कड़ी कार्रवाई का भरोसा दिया है। ऐसे कई इलाके हैं जहां दूरी का फायदा उठाकर और ग्रामीणों को डरा धमकाकर अवैध खनन हो रहा है और उंचे दामों में बालू माफिया बेच रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper