किसानो और स्टार्टअप को एक मंच पर लाने में आई वी आर आई की मह्त्वपूर्ण भूमिका

बरेली: भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान, इज्जतनगर जहाँ एक ओर पशु रोगों और उनके उन्मूलन में अपना उल्लेखनीय योगदान दे रहा है वहीं दूसरी ओर किसानों और स्टार्टअप को एक मंच पर लाने का महत्वपूर्ण कार्य कर रहा है इसी दिशा में आईवीआरआई द्वारा नई दिल्ली में 17 एवं 18 अक्टूबर को पीएम किसान सम्मान सम्मेलन-2022 में किसानों और स्टार्टअप के लिये कॉन्क्लेव में सहभागिता की, जिसका उद्घाटन माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने किया। स्टार्टअप कृषि क्षेत्र के विभिन्न समस्याओं को हल करने में महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभा रहे हैं।

माननीय प्रधानमंत्री जी ने स्टार्टअप प्रदर्शनी के थीम पवेलियन का दौरा किया और स्टार्टअप्स के साथ बातचीत भी की। इस अवसर पर लोकसभा स्पीकर आदरणीय श्री ओम बिरला जी ने भी स्टार्टअप्स के उत्पादों को देखा और उनसे नवाचार के बारें में चर्चा की। कार्यक्रम के उद्घाटन समारोह में श्री नरेंद्र सिंह तोमर केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री, श्री मनसुख मंडाविया केंद्रीय रसायन और उर्वरक मंत्री, सुश्री शोभा करंदलाजे केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण राज्य मंत्री, श्री कैलाश चौधरी कृषि और किसान राज्य मंत्री और श्री भगवंत खुबा केंद्रीय रसायन और उर्वरक मंत्री भी उपस्थित थे। प्रदर्शनी में एग्रीटेक सेक्टर के 300 से ज्यादा स्टार्टअप्स ने हिस्सा लिया।

स्टार्टअप्स ने अलग-अलग कैटेगरी के तहत अपने नवाचार का प्रदर्शन किया। जैसे कि सटीक कृषि, वेस्ट टू वेल्थ, पोस्ट-हार्वेस्ट टेक्नोलॉजी, फार्म मशीनरी, एलाइड सेक्टर आदि। इस कार्यक्रम में आईसीएआर- भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान इज्जतनगर के विभिन्न राज्यों के 7 इन्क्यूबेटेड स्टार्टअप्स को अपने उत्पादों के प्रदर्शन के लिए चयन किया गया था। कृमांशी टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड और श्री बंसी गौ धाम एलएलपी ने वेस्ट टू वेल्थ श्रेणी के तहत अपने नवाचार का प्रदर्शन किया, जहां विटुलोमिक्स प्राइवेट लिमिटेड, वी आर फ्रेश इनोवेशन, मैजिकवेट्स प्राइवेट लिमिटेड, एगवर्स टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड और स्टेटलॉजिक इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने कृषि संबद्ध क्षेत्र के तहत अपने उत्पादों का प्रदर्शन किया।

कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय और पूसा कृषि के मार्गदर्शन में एग्री स्टार्टअप कॉन्क्लेव के आयोजन में आईवीआरआई की पूरी RABI टीम ने सक्रिय रूप से भाग लिया। इस कार्यक्रम में देश के सभी आरकेवीवाई-रफ़्तार परियोजना के 5 नॉलेज पार्टनर्स और 24 आर-एबीआई सम्मिलित हुए। इस सम्मलेन की सफलता और महत्ता को देखते हुए कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा युवा उद्यमियों को प्रोत्साहित करने और किसान-स्टार्टअप संपर्क को बढ़ाने के लिए हर साल कृषि स्टार्टअप कॉन्क्लेव का आयोजन किया जायेग।।आने वाले दिनों में स्टार्टअप की सुगमता से कार्य करने हेतु सरकार कई योजनाओं को कार्यान्वित करने की दिशा में कार्य कर रही है।

बरेली से ए सी सक्सेना की रिपोर्ट

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
E-Paper