---- 300x250_1 ----
--- 300x250_2 -----

किसान आंदोलन का समर्थन करने पर ओझा ने रिहाना को लगाई फटकार

नई दिल्ली: भारत में किसान आंदोलन को अपना समर्थन देने के लिए अंतरराष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त पॉप सिंगर रिहाना की पूर्व भारतीय क्रिकेटर प्रज्ञान ओझा ने जमकर खिंचाई की है। उन्होंने कहा है कि हम नहीं चाहते कि कोई भी बाहरी हमारे अंदरूनी मामलों में दखल दे। दिल्ली के आस-पास इंटरनेट सेवा पर रोक – शीर्षक से एक टीवी चैनल की खबर को Tweet करते हुए रिहाना ने अपने टाइमलाइन पर फार्मर्स प्रोटेस्ट हैशटैग के साथ लिखा कि हम इस बारे में बात क्यों नहीं कर रहे हैं?!

इसके जवाब में ओझा ने कहा कि हमारे देश को अपने किसानों पर गर्व है। देश यह भी जानता है कि वे कितने महत्वपूर्ण हैं। मुझे पूरा भरोसा है कि जल्द ही इसका समाधान निकलेगा। हमारे अंदरूनी मामलों में किसी बाहरी को नाक घुसड़ने की कोई जरूरत नहीं है। गौरतलब है कि इंग्लैंड के बाएं हाथ के पूर्व स्पिनर मोंटी पानेसर ने भी भारत में किसानों के आंदोलन पर बहस के लिए पॉप स्टार को आमंत्रित किया था।

रिहाना के Tweet के जवाब में मोंटी पानेसर ने भी Tweet किया और लिखा, मेरे शो – दि फुल मोंटी पर इस शनिवार किसान आंदोलन के विषय पर आपका साक्षात्कार करना मेरे लिए सम्मान की बात होगी। तीन नए कृषि कानून को निरस्त करने की मांग पर अड़े किसान पिछले साल 26 नवंबर से ही दिल्ली से सटे बॉर्डर इलाकों में डटे हुए हैं। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने इन कानूनों के क्रियान्वयन पर फिलहाल रोक लगा दी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper