किसान के पिता ने 35 साल पहले लगाया था कटहल का पेड़, अब हो रही लाखों की कमाई

बंगलुरु: कर्नाटक के किसान एसएस परमेश के पास एक कटहल का पेड़ है जिसे इनके पिता ने 35 साल पहले लगाया था। पुश्तैनी पेड़ पर सेहत के लिए फायदेमंद कटहल तो लगते ही है लेकिन इनकी कमाई इतनी होती है कि जानकर आप हैरान रह जाएंगे। परमेश के पेड़ पर लगे कटहल जैव विविधता की खास नस्ल से तैयार हुए हैं और यही वजह है कि तुमकुर जिले के चेलुर गांव में लगे इस पेड़ को खास तवज्जो दी जा रही है।

परेमेश के पिता एसके सिदप्पा ने इस पेड़ को लगाया था और उनके गुजरने के बाद इस सिद्दू नाम दिया गया है। खास किस्म के इस कटहल में पौष्टिक तत्वों की मात्रा काफी अधिक मानी जाती है और सेहत के लिए काफी फायदेमंद भी है। इसी वजह से अब इसे काफी महंगे दाम में बेचा जाएगा। परमेश किसान हैं तो उन्हें इसकी खासियत के बारे में वैज्ञानिक जानकारी नहीं है। यही वजह है कि हॉर्टिकल्चर रिसर्च विभाग ने किसान परमेश के साथ एक करार किया है ताकि इस किस्म के कटहल को ज्यादा से ज्यादा मात्रा में उगाया किया जा सके।

हॉर्टिकल्चर रिसर्च विभाग ने सिर्फ कटहल की इस किस्म को अपने बैनर तले बेच रहा है बल्कि उसकी कमाई में 75 फीसद की हिस्सेदारी किसान को भी दी जा रही है। एक किसान ने बताया कि इस किस्म के कटहल की काफी मांग है, रिश्तेदार और मित्र अक्सर इसकी खरीदारी करते हैं और उन्हें इससे करीब 10 लाख की आमदनी होती है। आईआईएचआर के पहले ही इस नस्ल वाले कटहल के 10 हजार पौधों का ऑर्डर मिल चुका है। अगले 2 माह में बिक्री में शुरू की जाएगी। आम तौर पर एक कटहल का वजह 10-20 किलो होता है लेकिन इस किस्म के कटहल महज ढाई किलों के आस-पास के वजन वाले ही होते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper