किसान संबंधी बिलों के पास होने पर बोले पीएम मोदी- किसानों की टेक्नोलॉजी तक पहुंच होगी आसान

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा के बाद राज्यसभा से भी दो कृषि विधेयकों के पारित होने का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि इससे आने वाले समय में किसानों की टेक्नोलॉजी तक पहुंच और आसान होगी। उन्होंने एक बार फिर से जोर देकर कहा कि एमएसपी की व्यवस्था जारी रहेगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने बिल के उच्च सदन से पास होने के बाद कहा, ‘मैं पहले भी कहा चुका हूं और एक बार फिर कहता हूं कि एमएसपी की व्यवस्था जारी रहेगी। सरकारी खरीद जारी रहेगी। हम यहां अपने किसानों की सेवा के लिए हैं। हम अन्नदाताओं की सहायता के लिए हरसंभव प्रयास करेंगे और उनकी आने वाली पीढ़ियों के लिए बेहतर जीवन सुनिश्चित करेंगे।’

उन्होंने कहा कि हमारे कृषि क्षेत्र को मॉडर्न तकनीक की तत्काल जरूरत है, क्योंकि इससे मेहनतकश किसानों को मदद मिलेगी। अब इन बिलों के पास होने से हमारे किसानों की पहुंच भविष्य की टेक्नोलॉजी तक आसान होगी। इससे न केवल उपज बढ़ेगी, बल्कि बेहतर रिजल्ट सामने आएंगे। यह एक स्वागत योग्य कदम है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज के दिन को ऐतिहासिक करार देते हुए कहा, ‘भारत के कृषि इतिहास में आज एक बड़ा दिन है। संसद में अहम विधेयकों के पारित होने पर मैं अपने परिश्रमी अन्नदाताओं को बधाई देता हूं। यह न केवल कृषि क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन लाएगा, बल्कि इससे करोड़ों किसान सशक्त होंगे।’

हंगामे के बीच राज्यसभा से भी पारित हुए विधेयक

लोकसभा के बाद राज्यसभा में भी किसानों से संबंधित दो बिल रविवार को पारित हो गए। इस दौरान, संसद में कांग्रेस, टीएमसी समेत विपक्षी दलों ने जमकर हंगामा किया और विधेयकों का विरोध किया। ध्वनि मत से करवाई गई वोटिंग में राज्यसभा ने कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सरलीकरण) विधेयक-2020 और कृषक (सशक्तीकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 को मंजूरी दे दी। इससे पहले नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद ने मांग की कि दोनों विधेयकों पर हुई चर्चा का जवाब कल के लिए स्थगित कर दिया जाए क्योंकि रविवार को बैठक का निर्धारित समय समाप्त हो गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper